नई दिल्ली: सरकार सभी संपत्तियों- इक्योइटी, प्रॉपर्टी और स्वर्ण के कैपिटल गेन की गणना के लिए एक समान फ्रेमवर्क लाने पर विचार कर रही है. बजट में जो प्रस्ताव रखा गया है उसके मुताबिक लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस (एलटीसीजी) टैक्स को सरकार 24 महीने के लिए सभी संपत्तियों पर तय कर सकती है. Also Read - 7th Pay Commission: लाखों केंद्रीय कर्मियों के लिए खुशखबरी! DA को लेकर आई यह अच्छी खबर...

यह एक बड़ा कदम हो सकता है क्योंकि मौजूदा समय में इक्योइटी पर एक साल की एलटीसीजी, प्रॉपर्टी पर दो साल की और स्वर्ण पर तीन साल की एलटीसीजी का प्रावधान है. हालांकि एलटीसीजी में टैक्स की दरों में बदलाव होते या नहीं यह देखने वाली बात होगी. Also Read - Indian Railway Recruitment 2021: 10वीं पास के लिए रेलवे में निकली बंपर वैकेंसी, आवेदन प्रक्रिया शुरू, इस Direct Link से जल्द करें अप्लाई

आमतौर पर इन तीनों में सबसे ज्यादा निवेश देखा जाता है और इसी कारण एक समान एलटीसीजी की गणना पारदर्शिता लाने का काम करेगी और निवेशकों को स्पष्टता तथा सरलता प्रदान करेगी. यह कदम स्टॉक मार्केट को मजबूत करेगा क्योंकि सरकार एलटीसीजी शेयर की समय सीमा को भी 12 महीनों से 24 महीनों तक का करने पर विचार कर रही है. Also Read - Indian Railway Special Trains: इन 5 रूटों पर भारतीय रेलवे चलाएगी स्पेशल ट्रेन, देखें पूरी लिस्ट

अभी अगर घरेलू निवेशक 12 महीने तक इक्योइटी अपने पास रखता है तो उसे 20 प्रतिशत एलटीसीजी देना होता है और अगर बाहर का निवेशक इसे 12 महीने तक रखता है तो उसे 10 फीसदी एलटीसीजी देना होता है.