नई दिल्ली: लॉकडाउन के कारण मिली छूट का फायदा उठाते हुए पीएफ अकाउंट से खाताधारक तेजी से पैसा निकाल रहे हैं. श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के मुताबिक, अब तक करीब 13 लाख खाताधारक इस सुविधा का लाभ उठा चुके हैं. उनके दावों पर 4684.52 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है. खास बात है कि 7.40 लाख दावे प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना पैकेज से जुड़े हैं. Also Read - NBFCs, होम, फाइनेंस कंपनियों और MFI के लिए 30,000 करोड़ रुपए का कर्ज: वित्‍त मंत्री

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के मुताबिक, छूट प्राप्त पीएफ ट्रस्ट से भी पैसा निकालने वालों की संख्या बढ़ी है. बीते 27 अप्रैल के आंकड़ों के मुताबिक कुल 79,743 छूट प्राप्त पीएफ ट्रस्ट से जुड़े खाताधारकों ने 875.52 करोड़ रुपये खाते से निकाले. इसी तरह 222 निजी प्रतिष्ठानों के 54641 खाताधारकों ने 338.23 करोड़, जबकि 76 पब्लिक सेक्टर के प्रतिष्ठानों के 24178 लाभार्थियों ने 524.75 करोड़ रुपये अपने खाते से निकाले. इसी तरह 23 सहकारी सेक्टर के प्रतिष्ठानों ने 924 खाताधारकों को 12.54 करोड़ रुपये दिए. Also Read - Covid-19: सरकार ने विदेशी तबलीगी जमातियों को पर्यटन वीजा देने पर लगाया बैन, इस साल भारत आए थे 2100 विदेशी

क्या मिली है छूट Also Read - Covid-19: सरकार की 21 दिन के लॉकडाउन को आगे बढ़ाने की कोई योजना नहीं

दरअसल बीते 26 मार्च को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 1.70 लाख करोड़ का पैकेज घोषित किया था. जिसमें कोविड 19 से आर्थिक संकट का सामना कर रहे पीएफ खाताधारकों को भी पैसे निकालने की सुविधा दी गई. घोषणा के बाद ईपीएफ स्कीम, 1952 के पैरा 68एल में एक नया सब-पैरा (3) जोड़ा गया. जिसके तहत कोई खाताधारक खाते की राशि का 75 प्रतिशत या फिर तीन महीने के महंगाई भत्ते (जो भी कम हो) के बराबर पैसे की निकासी कर सकता है. पैसा निकालने के बाद खाताधारक को फिर से खाते में जमा करने की जरूरत नहीं होगी.