Government Guidelines OLA Uber: अब मनमाना किराया नहीं वसूल सकेंगी कैब कंपनियां, गाइडलाइन जारी

अब सरकार ने ओला उबर जैसी कैब कंपनियों पर नकेल कसने के लिए गाइडलाइन जारी किया है जिसके बाद अब ये कैब कंपनियां आपसे मनमाना किराया नहीं वसूल सकेंगी. जानिए...

Published: November 28, 2020 9:52 AM IST

By India.com Hindi News Desk | Edited by Kajal Kumari

Image is used for representational purpose only.
प्रतीकात्मक तस्वीर

Government Guidelines OLA Uber: ओला (Ola) और उबर (Uber) जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां अब आपसे मनमाना किराया नहीं वसूल सकेंगी. बता दें कि पीक आवर्स के दौरान ओला-उबर कैब किराए में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. लेकिन अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है. सरकार ने शुक्रवार को ओला (Ola) और उबर (Uber) जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियों के ऊपर मांग बढ़ने पर किराए बढ़ाने की एक सीमा लगा दी है. अब ये कंपनियां मूल किराए के डेढ़ गुने से अधिक किराया नहीं वसूल सकेंगी.

Also Read:

सरकार का यह कदम अहम इसलिए भी हो जाता है, क्योंकि लोग कैब सेवाएं देने वाली कंपनियों के अधिकतम किराए पर लगाम लगाने की लंबे समय से मांग कर रहे थे. बता दें कि ये पहली बार है जब भारत में ओला और उबर जैसे कैब एग्रीगेटर्स को रेग्यूलेट करने के लिए सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं.

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को जारी मोटर वाहन एग्रीगेटर दिशानिर्देश 2020 (Motor Vehicle Aggregators Guidelines 2020) के अनुसार, ‘एग्रीगेटर कंपनियों को मूल किराए के 50 प्रतिशत तक न्यूनतम किराए और डेढ़ गुने तक अधिकतम किराए वसूलने की मंजूरी दी जाती है.’

नए दिशानिर्देशों के अनुसार, प्रत्येक सवारी (राइड) पर लागू किराए का कम से कम 80 प्रतिशत हिस्सा एग्रीगेटर के साथ जुड़े वाहन के चालक को मिलेगा. शेष हिस्सा एग्रीगेटर कंपनियां रख सकती हैं.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: November 28, 2020 9:52 AM IST