Good News: केंद्र सरकार ने बीते बुधवार को एक बड़ा ऐलान किया था. सरकार ने 30 लाख से अधिक सरकारी कर्मचारियों को दिवाली बोनस देने की बात कहीथी. इसके जरिए कर्मचारियों  को कुल 3,737 करोड़ रुपये बोनस के रूप में सरकार देगी.सरकार की ओर से जारी बयान के मुताबिक भारतीय रेल, डाक, रक्षा, ईपीएफओ और ईएसआईसी समेत अन्य व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के 16.97 लाख नॉन-गैजेटेड (गैर-राजपत्रित) कर्मचारियों को बोनस दिया जाएगा. इससे सरकार के खजाने पर 2,791 करोड़ रुपये का वित्तीय भार पड़ेगा. Also Read - एक जनवरी से बदल जाएगा आपका मोबाइल नंबर, 10 के बदले 11 डिजिट होंगे, जानिए

अब सवाल है ये बोनस किन कर्मचारियों को और कब मिलेगा. इसका गणित इस तरह से समझ सकते हैं कि वित्त मंत्रालय ने गैर-उत्पादकता लिंक्ड बोनस (PLB)की गणना के लिये 7,000 रुपये की सीमा तय की है. बोनस गणना की इस सीमा के साथ कर्मचारी अधिकतम 6,908 रुपये का बोनस पाने का पात्र होगा. वित्त मंत्रालय के अधीन आने वाले व्यय विभाग ने इसकी जानकारी दी है. Also Read - फ्री में राशन लेने के लिए बचे हैं मात्र 6 दिन, ऐसे ले सकते हैं मोदी सरकार की इस योजना का लाभ

आपको बता दें कि 30 लाख सरकारी कर्मचारियों में भारतीय रेल, डाक, रक्षा, ईपीएफओ और ईएसआईसी समेत अन्य व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के 16.97 लाख नॉन-गैजेटेड (गैर-राजपत्रित) कर्मचारी शामिल हैं. इन्‍हें भी सरकार बोनस दे रही है. तो इस तरह, कुल 30.67 लाख कर्मचारियों को बोनस का लाभ मिलेगा और सरकार पर कुल 3737 करोड़ रुपये का वित्तीय बोझ आएगा. Also Read - केंद्र सरकार के राहत पैकेज के बाद टूटा शेयर बाजार, 8 सत्रों से जारी तेजी पर लगा ब्रेक

केंद्र सरकार का ये बोनस सीधे सरकारी कर्मचरियों के बैंक अकाउंट में यानी डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर (DBT) के जरिये ट्रांसफर किया जाएगा. सरकार की ओर से ये स्‍पष्‍ट किया जा चुका है कि कर्मचारियों को बोनस एक सप्ताह के भीतर ही दे दिया जाएगा.

केंद्र सरकार का मानना है कि कर्मचारी त्योहारों के दौरान खर्च के लिये प्रोत्साहित होंगे और इससे कुल मिलाकर अर्थव्यवस्था में मांग बढ़ेगी. आपको बता दें कि अर्थव्‍यवस्‍था की सुस्‍ती में सरकार का डिमांड बढ़ाने पर जोर है.