नई दिल्ली: सरकार ने मीडिया, विमानन, बीमा और एकल ब्रांड खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के नियमों को उदार करने का प्रस्ताव किया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2019-20 का बजट पेश करते हुए यह प्रस्ताव किया. वित्त मंत्री ने कहा कि बीमा क्षेत्र की मध्यस्थ इकाइयों के लिए 100 प्रतिशत एफडीआई की मंजूरी दी जाएगी. साथ ही एकल ब्रांड खुदरा क्षेत्र में स्थानीय खरीद के नियमों में ढील दी जाएगी.

तीन करोड़ छोटे दुकानदारों और खुदरा कारोबारियों के लिए पेंशन योजना: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि अभी एफडीआई नीति के तहत बीमा क्षेत्र में 49 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति है. इसमें बीमा ब्रोकिंग, बीमा कंपनियां, तीसरा पक्ष प्रशासक (टीपीए), सर्वेयर और नुकसान आंकलनकर्ता शामिल हैं. बीते वित्त वर्ष में देश में 64.37 अरब डॉलर का एफडीआई आया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष यानी 2017-18 से छह प्रतिशत अधिक है.

सरकार ने एनपीए के 4 लाख करोड़ रुपए वसूले हैं पिछले चार साल में: वित्‍त मंत्री सीतारमण

वित्त मंत्री ने कहा, मैं इस लाभ को और बेहतर करने का प्रस्ताव करती हूं जिससे भारत को विदेशी निवेश के लिए और अधिक आकर्षक गंतव्य बनाया जा सके. उन्होंने कहा कि सरकार विमानन, मीडिया, एवीजीसी (एनिमेशन, विजुअल इफेक्ट्स, गेमिंग और कॉमिक्स) तथा बीमा क्षेत्रों को एफडीआई के लिए और खोलने को अंशधारकों के साथ विचार विमर्श करेगी.

रेलवे में Rs.50 लाख करोड़ के निवेश की जरूरत, पीपीपी मॉडल अपनाएंगे: वित्त मंत्री

3,000 अरब डॉलर की भारतीय अर्थव्यवस्था हो जाएगी इसी साल

सरकार से मांग की गई थी कि बीमा ब्रोकरों को 100 प्रतिशत एफडीआई मंजूरी वाली अन्य वित्तीय क्षेत्र की मध्यस्थ इकाइयों की तरह ही माना जाए. देश में 2015 तक बीमा की पहुंच 3.4 प्रतिशत आबादी तक थी, जबकि इसका वैश्विक औसत 6.2 प्रतिशत है.

निर्मला सीतारमण ने शायरी से की बजट भाषण की शुरुआत, कहा- यकीन हो तो कोई रास्ता निकलता है…

अभी समाचार पत्रों तथा समाचारों और ताजा घटनाक्रमों वाली पत्र पत्रिकाओं के प्रकाशन पर 26 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति है. साथ ही समाचार और ताजा घटनाक्रमों वाली विदेशी पत्रिकाओं के भारतीय संस्करणों पर भी इतने ही विदेशी निवेश की अनुमति है.

भारत के लिए विदेशी निवेश काफी महत्वपूर्ण है. भारत को अपने बुनियादी ढांचा क्षेत्रों मसलन बंदरगाहों, हवाई अड्डों तथा राजमार्गों में सुधार के लिए ही अरबों डॉलर के निवेश की जरूरत है. विदेशी निवेश से जहां देश के भुगतान संतुलन की स्थिति सुधरती है, वहीं अन्य देशों की मुद्राओं की तुलना में रुपया भी मजबूत होता है.