नई दिल्ली: लोढ़ा डेवलपर्स के एमपी लोढ़ा और उनके परिवार को देश के रीयल एस्टेट क्षेत्र का सबसे अमीर उद्यमी आंका गया है. लोढ़ा की कुल संपत्तियां 31,960 करोड़ रुपए हैं. इस सूची में डीएलएफ के राजीव सिंह दूसरे और एम्बैसी ग्रुप के संस्थापक जितेंद्र विरवानी तीसरे स्थान पर हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि रीयल एस्टेट क्षेत्र के दस सबसे अमीर उद्यमियों में से छह मुंबई के हैं. 100 सबसे अधिक अमीरों में से 37 मुंबई के हैं. इस सूची में दिल्ली और बेंगलुरु के 19-19 उद्यमियों के नाम हैं.

हुरुन रिपोर्ट और ग्रोही इंडिया ने सोमवार को ‘ग्रोही हुरुन इंडिया रीयल एस्टेट रिच लिस्ट 2019’ का तीसरा संस्करण जारी किया. इस रिपोर्ट में देश के रीयल एस्टेट क्षेत्र के अमीरों के बारे में जानकारी दी गई है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि 31,960 करोड़ रुपए की संपदा के साथ मंगल प्रभात लोढ़ा और मैक्रोटेक डेवलपर्स का परिवार (पुराना नाम लोढ़ा डेवलपर्स) सूची में पहले स्थान पर हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि लोढ़ा परिवार की संपदा 2019 में 18 प्रतिशत बढ़ी है. सूची में शामिल 99 अन्य भारतीयों की कुल संपदा का 12 प्रतिशत लोढ़ा परिवार के पास है.

इस सूची में डीएलएफ के राजीव सिंह 25,080 करोड़ रुपए की संपदा के साथ दूसरे स्थान पर हैं. 2019 में उनकी संपत्तियां 42 प्रतिशत बढ़ीं. पिछले साल वह इस सूची में तीसरे स्थान पर थे. एम्बैसी प्रॉपर्टी डेवलपमेंट्स के जितेंद्र विरवानी 24,750 करोड़ रुपए की संपदा के साथ तीसरे स्थान पर हैं. यह सूची इन उद्यमियों की 30 सितंबर, 2019 तक संपत्तियों के आधार पर तैयार की गई है.

रीयल एस्टेट क्षेत्र के अमीर उद्यमियों की सूची में हीरानंदानी कम्युनिटीज ग्रुप के निरंजन हीरानंदानी 17,030 करोड़ रुपए की संपदा के साथ चौथे, के रहेजा के चंद्रू रहेजा एवं परिवार 15,480 करोड़ रुपए के साथ पांचवें, ओबरॉय रीयल्टी के विकास ओबरॉय 13,910 करोड़ रुपए की संपत्तियों के साथ छठे और बागमाने डेवलपर्स के राजा बागमाने 9,960 करोड़ रुपए की संपदा के साथ सातवें स्थान पर हैं.

हाउस आफ हीरानंदानी, सिंगापुर के सुरेंद्र हीरानंदानी 9,720 करोड़ रुपए की संपत्तियों के साथ आठवें, मुंबई के रनवाल डेवलपर्स के सुभाष रनवाल और परिवार 7,100 करोड़ रुपए की संपदा के साथ नौवें और पीरामल रीयल्टी के अजय पीरामल एवं परिवार 6,560 करोड़ रुपए की संपदा के साथ दसवें स्थान पर हैं.