माल एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने पुराने वाहनों, कन्फेक्शनरी और बायोडीजल सहित 29 वस्तुओं पर कर की दर घटाने का फैसला किया. वहीं साथ ही परिषद ने जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल करने पर विचार विमर्श किया ताकि छोटी इकाइयों पर अनुपालन का बोझ कम हो सके. इसके अलावा कुछ जॉब वर्क्स, दर्जी की सेवाएं और थीम पार्क में प्रवेश सहित 54 श्रेणी की सेवाओं पर जीएसटी की दर घटाई गई है. वित्त मंत्री अरुण जेटली की अगुवाई वाली जीएसटी परिषद की यहां हुई 25वीं बैठक में 29 उत्पादों और 54 श्रेणियों की सेवाओं पर कर की दरें घटाने का फैसले किया गया. जीएसटी परिषद में सभी राज्यों के प्रतिनिधि शामिल हैं. Also Read - काम की खबरः बीमा पॉलिसी खरीदने के लिए दी गई प्रीमियम पर मिलेगी LTC कैश वाउचर योजना के तहत छूट

Also Read - LTC Scheme: कर्मचारी परिवार के सदस्यों के नाम से कर सकते हैं खरीदारी

29 सामानों और 53 सेवाओं पर GST घटाई, पेट्रोल-डीजल पर फैसला अगली बैठक में

29 सामानों और 53 सेवाओं पर GST घटाई, पेट्रोल-डीजल पर फैसला अगली बैठक में

Also Read - फरवरी के बाद GST संग्रह पहली बार 1 लाख करोड़ के पार, वित्त मंत्रालय ने जारी किया आंकड़ा

बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में जेटली ने कहा कि परिषद की अगली बैठक में कच्चे तेल, प्राकृतिक गैस, पेट्रोल, डीजल, विमान ईंधन एटीएफ और रीयल एस्टेट को जीएसटी के दायरे में लाने पर विचार किया जा सकता है. जीएसटी परिषद ने सेकेंड हैंड या पुरानी मध्यम और बड़ी कारों तथा एसयूवी पर जीएसटी की दर को 28 से घटाकर 18 प्रतिशत किया है. वहीं अन्य पुराने और सेकेंड हैंड वाहनों पर कर की दर को घटाकर 12 प्रतिशत करने का फैसला किया गया.

 

इन चीजों पर जीएसटी 18% से 12% हुआ

सुगर बॉइल्ड कन्फेक्शरी बॉयोडीजल

बॉयो पेस्टीसाइड्स

डिप इरीगेशन सिस्टम

बांस की सीढ़ी,20 लीटर की बोतल में पेयजल

स्प्रिंकलर्स

मेकेनिकल स्प्रेयर्स

इन चीजों पर  जीएसटी 18% से 5% हुआ

इमली का पाउडर, मेहंदी के कोन

निजी एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स द्वारा घरों में आपूर्ति की जाने वाली एलपीजी

तकनीकी उपकरण

इन चीजों पर 12% से 5% हुआ जीएसटी

स्ट्रॉ से बनी चीजें

वैल्वेट फेब्रिक

जीएसटी परिषद ने सेकेंड हैंड या पुरानी मध्यम और बड़ी कारों तथा एसयूवी पर जीएसटी की दर को 28 से घटाकर 18 प्रतिशत किया है. वहीं अन्य पुराने और सेकेंड हैंड वाहनों पर कर की दर को घटाकर 12 प्रतिशत करने का फैसला किया गया. हीरों और कीमती रत्न पर कर की दर को मौजूदा तीन प्रतिशत से घटाकर 0.25 प्रतिशत किया गया है.

उल्लेखनीय है कि जीएसटी से राजस्व संग्रह लगातार घट रहा है.जुलाई में जीएसटी संग्रह 95,000 करोड़ रुपये रहा था, जो नवंबर में घटकर 81,000 करोड़ रुपये पर आ गया.