दुनियाभर में क्रिप्टोकरेंसी की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है. ऐसे में बिटक्वाइन दुनिया की सबसे तेजी से उभरने वाली क्रिप्टोकरंसी बनकर सामने आई है. एक बिटक्वाइन की कीमत 10 दिन पहले तक 14 लाख रुपये थी लेकिन अब एक बिटक्वाइन की कीमत 24 लाख रुपये तक पहुंच चुकी है. यानी 10 दिनों में बिटक्वाइन के भाव में 10 लाख रुपये का इजाफा देखने को मिला है. इसी कारण भारतीय एजेंसियां अब अलर्ट मोड में आ चुकी हैं और बिटक्वाइन पर टैक्स लगाने की तैयारी कर रही है.Also Read - Bitcoin: लोकसभा में वित्तमंत्री ने दिया लिखित जवाब, बिटक्वॉइन को करेंसी माने जाने के लिए कोई प्रस्ताव नहीं

केंद्रीय आर्थिक खुफिया ब्यूरो और राजस्व खुफिया निदेशालय ने डिजिटल करंसी पर GST लगाने का प्रस्ताव भेजा है. यानी अगर प्रस्ताव को मंजूरी मिलती है तो बिटक्वाइन की खरीद-बिक्री पर सरकार कुछ टैक्स वसूलेगी. बता दें कि बिटक्वाइन का कोई मालिक नहीं है और न ही कोई इसका नियंत्रक है. यह ब्लॉकचैन तकनीक पर आधारित एक क्रिप्टेकरेंसी है. Also Read - Bitcoin Price Today: गिरने के बाद संभल गए बिटकॉइन और ईथर, Altcoins का संघर्ष जारी

बिटक्वाइन में बढ़ते निवेश ने भारतीय रिजर्व बैंक को एक बार फिर चौकन्ना कर दिया है. बता दें कि बीते दिनों एक कंपनी पर प्रतिबंध लगाया गया था जो बिटक्वाइन की खरीद फरोख्त एक ऐप के माध्यम से करवाता था. ऐसे में उक्त व्यक्ति सुप्रीम कोर्ट पहुंचा जहां कोर्ट ने बिटक्वाइन से प्रतिबंध हटा दिया था. ऐसे मे केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBIC) बिटक्वाइन पर 18 से 28 फीसदी तक जीएसटी लगा सकती है. बता दे कि अगर ऐसा किया जाता है तो बिटक्वाइन की खरीद फरोख्त इत्यादि मामलों पर टैक्स वसूला जा सकता है. Also Read - Crypto Ban Survey: क्रिप्टो पर प्रतिबंध के बीच एक सर्वे के जरिए समझिए भारतीयों की राय