निजी क्षेत्र के देश के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी बैंक ने मंगलवार को कहा कि वह अगले दो साल में आईटी बुनियादी ढांचा में सुधार के लिये विशेष परियोजना के तहत 500 लोगों को नियुक्त करेगा.Also Read - दिल्ली में साइबर क्राइम : भनक ही नहीं लगी, सैकड़ों लोगों के नाम पर लाखों रुपए के लोन निकाल लिए गए

बैंक ने एक बयान में कहा कि वह भविष्य में नए डिजिटल उत्पादों और सेवाओं को पेश करने और अपने आईटी (सूचना प्रौद्योगिकी) बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए एक ‘डिजिटल इकाई’ और एक ‘उद्यम इकाई’ स्थापित कर रहा है. Also Read - अगले पांच साल के दौरान हर वर्ष 1,500 से 2,000 शाखाएं खोलेगा एचडीएफसी बैंक

ये इकाइयां बैंक को चलाने और समय के अनुसार उसमें बदलाव लाने को लेकर प्रौद्योगिकी रूपांतरण का हिस्सा है. Also Read - लोन भुगतान नहीं करने पर 'ग्रेट इंडिया तमाशा' की संपत्तियों की बिक्री करेगा आईडीबीआई बैंक

बैंक ने कहा कि वह अगले दो साल में विभिन्न तकनीकी क्षेत्रों में अनुभव रखने वाले 500 लोगों को नियुक्त करेगा। इसमें आंकड़ा विश्लेषण, कृत्रिम मेधा, मशीन लर्निंग, डिजाइन, क्लाउड आदि क्षेत्र शामिल हैं.

बैंक के कर्मचारियों की संख्या मार्च की स्थिति के अनुसार 1.2 लाख है और उसे पिछले कुछ साल से तकनीकी समस्याओं से जूझना पड़ रहा है. साथ ही रिजर्व बैंक ने बैंक पर नये क्रेडिट कार्ड या नये डिजिटल उत्पाद पेश करने पर पाबंदी लगायी हुई है.

(भाषा)