Health Budget For 2020-21: केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को संसद में बजट पेश कर रही हैं. बजट पेश करने के दौरान सीतारमण ने कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 में स्वास्थ्य विभाग के लिए 69000 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं. यही नहीं वित्त मंत्री ने शनिवार के दिन संसद में आम बजट पेश करते हुए कहा कि सार्वजनिक-निजी भागीदारी (PPP) मॉडल के जरिए हर जिला अस्पताल के साथ मेडिकल कॉलेजों को अटैच करने का प्रस्ताव रखा गया है. Also Read - Private Banks Can Get Govt Business: अब कर संग्रह, पेंशन भुगतान और लघु बचत योजनाओं जैसे काम भी करेंगे निजी बैंक

वित्तमंत्री सीतारमण ने शनिवार को संसद में बजट पेश करते हुए कहा कि सरकार ने 2025 तक क्षय रोग (टीबी) के उन्मूलन का लक्ष्य रखा है. उन्होंने कहा- टीबी हारेगी – देश जीतेगा’ योजना के तहत वर्ष 2024 तक सभी जिलों में जन औषधि केंद्र बनाए जाएंगे. बता दें कि पोषण संबंधी कार्यक्रमों के लिए 2020-21 के बजट में 35,600 करोड़ रुपये आवंटित किए गए है. बता दें कि साल 2019-20 में स्वास्थ्य पर 61,398 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे. वहीं उस वक्त आयुष्मान भारत के लिए 6400 करोड़ रुपए खर्च किए गए. Also Read - Privatisation of PSU Banks: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजीकरण क्यों करना चाहती है भारत सरकार?

(इनपुट-आईएएनएस) Also Read - Who is Doomsday Man: कौन है अमेरिका का 'डूम्सडे मैन', जिससे हुई राहुल गांधी की तुलना, कांग्रेस ने वित्त मंत्री को दिया नोटिस