Housing sales data: आवासीय घरों की बिक्री में साल 2021 के पहले 9 महीनों के दौरान 47 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इसकी जानकारी प्रॉपर्टी कंसल्टेंट जेएलएल इंडिया द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में दी गई है. रिपोर्ट के मुताबिक देश के सात बड़े शहरों में जनवरी से सितंबर की अवधि के दौरान, पिछले साल की तुलना में 47 फीसदी से अधिक बढ़ोतरी दर्ज की गई है.Also Read - Indian Railways: इन ट्रेनों में डी-रिजर्व द्वितीय श्रेणी के कोचों को 'अनारक्षित' कोच के तौर पर चलाएगी रेलवे, यहां देखें पूरी सूची

रिपोर्ट के मुताबिक दूसरी तिमाही यानी की अप्रैल से जून के दौरान कोरोना मामलों में बढ़ोतरी और लॉकडाउन की वजह से बिक्री धीमी पड़ गई. लेकिन 2021 की तीसरी तिमाही (जुलाई से सितंबर) में प्रतिबंधों के हटने और वैक्सीनेशन के रफ्तार पकड़ने के साथ घरों की बिक्री में तेजी आ गई. Also Read - Aryan Khan Drugs Case: आर्यन खान की जमानत याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट में 26 अक्टूबर को होगी सुनवाई

रिपोर्ट में यह बताया गया है कि होम लोन की सस्ती ब्याज दरों और रोजगार से जुड़े मामलों में स्थिरता आने का भी घरों की बिक्री पर असर पड़ा. पिछली 5 तिमाहियों की तरह से साल 2021 की तीसरी तिमाही में भी सबसे ज्यादा घरों की बिक्री मुंबई में हुई. तीसरी तिमाही में हुई कुल बिक्री का तकरीबन 21 फीसदी मुंबई में हुई. इसके बाद पुणे और बेंगलुरु का स्थान रहा. Also Read - मुंबई में ‘सेक्स टूरिज्म’ गिरोह का भंडाफोड़, गोवा और अन्य पर्यटन स्थलों के मिलते थे विकल्प

तीसरी तिमाही के शहर-वार आंकड़ों के मुताबिक, बेंगलुरू में घरों की बिक्री जुलाई से सितंबर 2021 के दौरान बढ़कर 5,100 यूनिट हो गई, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि में 1,742 यूनिट थी. वहीं, चेन्नई में घरों की बिक्री 1,570 यूनिट से घटकर 1,500 यूनिट रह गई. सात शहरों में, केवल चेन्नई ही इकलौता ऐसा शहर रहा, जहां तिमाही के दौरान बिक्री में साल-दर-साल आधार पर गिरावट दर्ज की गई.

दिल्ली-NCR में आवासीय घरों की बिक्री 3,112 यूनिट्स से दो गुना बढ़कर 6,689 यूनिट हो गई है, जबकि हैदराबाद में भी घरों की बिक्री 2,122 यूनिट से दो गुना अधिक बढ़कर 4,418 यूनिट हो गई. कोलकाता में घरों की बिक्री 390 यूनिट से पांच गुना बढ़कर 1,974 इकाई हो गई है, और मुंबई में भी घरों की बिक्री में 4,135 यूनिट से 6,756 यूनिट की वृद्धि देखी गई है.