नई दिल्ली: भारतीय यात्री वाहन बाजार में बिक्री बाद सेवा (सर्विस) के मामले में ग्राहक संतुष्टि (कस्टमर सैटिस्फैक्शन) में हुंडई मोटर इंडिया सबसे आगे रही है. टाटा मोटर्स दूसरे और महिंद्रा एंड महिंद्रा तीसरे नंबर पर रही. वैश्विक बाजार अनुसंधान फर्म जेडी पावर के सालाना सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष सामने आया है.

सबरीमाला श्रद्धालुओं के समर्थन में अमित शाह बोले, कम्युनिस्ट सरकार मंदिरों के खिलाफ साजिश रच रही

जेडी पावर के भारतीय ग्राहक सेवा सूचकांक 2018 नामक अध्ययन में कहा गया है कि हुंडई 912 अंक के साथ ग्राहक सेवा संतुष्टि में अव्वल रही. दक्षिण कोरियाई की यह कंपनी पिछले साल भी पहले पायदान पर रही थी.

सुप्रीम कोर्ट ने 5 कार्यकर्ताओं की रिहाई वाली रोमिला थापर की रिव्‍यू पिटीशन खारिज की 

टाटा मोटर्स 874 अंक के साथ दूसरे स्थान और महिंद्रा एण्ड महिंद्रा 865 अंक के साथ तीसरे पायदान पर रही. इसके बाद फोर्ड (829 अंक) चौथे, टोयोटा (827 अंक) पांचवें स्थान पर रही है. देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया को इस सूचकांक में 804 अंक के साथ ग्राहक सेवा संतुष्टि के मामले में 8वां स्थान मिला है.

आईआरएस अधिकारी एसके मिश्रा ईडी प्रमुख बने, लेंगे करनाल सिंह की जगह 

जेडी पावर यह अध्ययन 22 साल से कर रही है. इसमें नया वाहन खरीदने के बाद उसके मालिकों से बिक्री बाद सेवा की गुणवत्‍ता को लेकर उनकी राय जानी जाती है. इसमें बिक्री बाद सेवा के मामले में पांच कारकों को देखा जाता है. सेवा की गुणवत्ता, वाहन के गति पकड़ने की रफ्तार, सेवा सलाहकार, सेवा सुविधा और उसकी शुरुआत के मानकों पर अंक तय किये जाते हैं.

गुजरात में पीएम मोदी, सीएम रूपाणी और ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ के पोस्टरों को फाड़ा और कालिख पोती

यह अध्ययन नया वाहन खरीदने वाले 9,045 वाहन मालिकों से ली गई जानकारी के आधार पर तैयार किया गया. इन लोगों ने मार्च 2015 से अगस्त 2017 के दौरान ये नए वाहन खरीदे.

श्रीलंका: प्रेसिडेंट सिरिसेना ने राजपक्षे को पीएम नियुक्त करने के लिए जारी किए गजट नोटिफिकेशन 

अध्ययन में कहा गया है कि यह महत्वपूर्ण है कि भारत में वाहन उद्योग में युवा ग्राहकों की भागीदारी बढ़ रही है. सर्विस के लिए डीलरों के पास जाने वाले ग्राहकों में 28 प्रतिशत ग्राहक 30 साल या उससे भी कम उम्र के हैं.