वॉशिंगटन: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने मंगलवार को भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2018 में 7.3% और 2019 में 7.4% रहने का अनुमान जताया है. अपनी नवीनतम विश्व आर्थिक परिदृश्य रिपोर्ट में आईएमएफ ने कहा कि चालू वर्ष में भारत फिर से दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था का दर्जा हासिल कर लेगा. यह चीन के मुकाबले 0.7% अधिक होगा. साल 2017 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 6.7% थी.

रिपोर्ट में भारत द्वारा हाल में किए गए आर्थिक सुधारों का भी जिक्र किया है. इसमें माल एवं सेवाकर (जीएसटी) और दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता को लागू करना शामिल है. साथ ही मुद्रास्फीति को लक्ष्य के भीतर बनाए रखने, विदेशी निवेश के उदारीकरण और कारोबार सुगमता के लिए उठाए गए कदम भी शामिल हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है, ”भारत की आर्थिक वृद्धि 2018 में 7.3% और 2019 में 7.4% रहने का अनुमान है.”

यह आईएमएफ द्वारा अप्रैल 2018 में जारी विश्व आर्थिक परिदृश्य में जताए गए अनुमान से कम है. इसकी अहम वजह हाल में कच्चे तेल की कीमतों में इजाफा होना और वैश्विक आर्थिक हालात का मुश्किल भरा होना बताई गई है. हालांकि, यह 2017 के 6.7% की आर्थिक वृद्धि दर से अधिक है.