Realty Sector: कोरोना महामारी को रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन से अन्य सेक्टरों की तरह रियल्टी सेक्टर को भी कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा. लेकिन, अर्थव्यवस्था के बेहतरी के लिए कई सकारात्मक कारकों से 2020 में रियल्टी सेक्टर का अंत अच्छा होता दिख रहा है. इनमें स्टाम्प ड्यूटी में कमी, सस्ता होम लोन, आकर्षक ऑफर के साथ बेहतर लिक्विडिटी और डेवलपरों की तरफ से स्टाम्प ड्यूटी पर छूट शामिल हैं. जिसकी वजह से उम्मीद के अनुसार फेस्टिव सीजन के बीच नवंबर में रियल्टी सेक्टर की बिक्री के आंकड़े पिछले करीब एक दशक में सबसे अच्छे रहे हैं. Also Read - Real Estate Sector News: 15 साल में पहली बार अपनी शर्तों पर घर खरीद रहे हैं लोग, रियल एस्‍टेट सेक्‍टर के लिए मुश्किल रहेगा यह साल: क्रिसिल

लॉकडाउन के दौरान रियल्टी एस्टेट सेक्टर की बेहद खराब स्थिति रही. लेकिन, वर्क फ्रॉम होम कल्चर के बढ़ने से लोग बड़े घर में रहना पसंद कर रहे हैं, जिससे मांग में बढ़ोतरी देखी जी रही है. Also Read - Sensex down by 130 points on Thursday | तेजी के साथ खुला, लेकिन बंद होते-होते सेंसेक्स में 130 अंकों की गिरावट

रिजर्व बैंक की तरफ से मिले संकेतों से व्यापार और निवेश के लिए ब्याज दर और लिक्विडिटी के मध्यम अवधि में बेहतर बने रहने की संभावना है.

माना जा रहा है कि देश में अनलॉकिंग और इकोनॉमी में तेजी से इंडियन रियल्टी सेक्टर के लिए आगे हाई ग्रोथ हो सकती है. इससे 2021 में रियल्टी सेक्टर की बिक्री बढ़ने की संभावना है.

अगले कुछ महीनों में पूरे देश में रियल्टी सेक्टर की सेल्स बढ़ सकती है, खास कर टीयर 2 शहरों में इसकी ज्यादा संभावना दिखाई दे रही है.

बता दें, नवंबर में मुंबई में मकानों की बिक्री साल दर साल आधार पर 67 फीसदी बढ़ कर 9301 यूनिट रही. स्टाम्प ड्यूटी में कटौती और फेस्टिव सीजन के चलते बिक्री को सहारा मिला. वहीं मासिक आधार पर अक्टूबर में 42 फीसदी और नवंबर में 17 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई. सितंबर में मासिक ग्रोथ 112 फीसदी रही थी.

इंडस्ट्री से जुड़े जानकारों का कहना है कि भारत में इस समय किफायती मकानों की मांग काफी अच्छी आ रही है. एक अनुमान के अनुसार इस समय भारत में करोड़ो मकानों की जरूरत है, जो किफायती आवासों की मांग का संकेत है.