नई दिल्ली: आयकर विभाग (Income Tax Department) ने 500 करोड़ रुपए से अधिक की हेराफेरी का बड़ा खुलासा किया है. आयकर विभाग ने देश की 42 जगहों पर छापा मारते हुए ये बड़ा भंडाफोड़ किया है. आयकर विभाग ने दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 42 स्थानों पर छापेमारी की. इतना ही नहीं आयकर विभाग ने 2.3 करोड़ रुपए से अधिक की नकदी और 2.8 करोड़ रुपए के गहने जब्त किए हैं. आयकर विभाग ने एक बयान में कहा कि कई टीमों ने फर्जी बिलिंग के जरिए बड़ी संख्या में नकदी का प्रवेश संचालन और उत्पादन करने का रैकेट चलाने वाले व्यक्तियों के एक बड़े नेटवर्क को खोजा और जब्ती की कार्रवाई की. इसके लिए विभाग ने दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 42 परिसरों में तलाशी ली. Also Read - Income Tax Department News: आयकर विभाग ने 41.25 लाख आयकर दाताओं को जारी किया 1.36 लाख करोड़ का रिफंड

आयकर विभाग ने कहा कि “तलाशी में एंट्री ऑपरेटरों, बिचौलियों, नकदी संचालकों, लाभार्थियों, फर्मों और कंपनियों के पूरे नेटवर्क को उजागर करने वाले सबूत जब्त किये. वहीं 500 करोड़ रुपये से अधिक की आवास प्रविष्टियों के सबूत के दस्तावेज पहले ही जब्त किये जा चुके हैं.” विभाग ने कहा कि कई शेल कंपनियों या फर्मों द्वारा उपयोग किए गए फर्जी बिलों और जारी किए गए असुरक्षित बिलों के बदले में बेहिसाब फंड और नकद धन निकाला गया. Also Read - Income Tax Deaprtment: आयकर विभाग ने 39.75 लाख करदाताओं को जारी किए 1.32 लाख करोड़ रुपये रिफंड

इसमें आगे कहा गया, “खोजे गए व्यक्तियों के पास कई बैंक खाते और लॉकर थे. ये उनके परिवार के सदस्यों और विश्वसनीय कर्मचारियों और शेल कंपनियों के नाम से खोले गए, जो वे डिजिटल मीडिया के जरिए बैंक अधिकारियों की मिली-भगत से काम चल रहे थे. अब इनकी भी जांच की जा रही है.” यह भी कहा गया है कि बड़े शहरों में लाभार्थियों ने अचल संपत्तियों में भारी निवेश किया और फिक्सड डिपॉजिट में कई सौ करोड़ रुपये जमा किए. उन्होंने कहा, “तलाशी के दौरान 17 बैंक लॉकरों में 2.37 करोड़ रुपये की नकदी और 2.89 करोड़ रुपये के आभूषण मिले हैं.” Also Read - केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने एक अप्रैल से तीन नवंबर के बीच जारी किए 1,29,190 करोड़ से अधिक के रिफंड