Income Tax Liability: अगर आपकी सालाना सैलरी है 10 लाख, तो टैक्स कर सकते हैं Zero, जानें- क्या है तरीका?

Income Tax Liability: अगर आपकी सालाना सैलरी 10 लाख रुपये है, तो आप कई जगहों पर निवेश करके अपने टैक्स की लायबिलिटी जीरो कर सकते हैं. इसमें आयकर की कई धाराओं में मिलने वाली छूट का लाभ लेकर आयकर की देनदारियों को शून्य पर पहुंचाया जा सकता है.

Published: January 6, 2022 1:14 PM IST

By Manoj Yadav

Income tax Saving FD
Income tax Saving FD

Income Tax Liability: अगर आपकी सालाना सैलरी (Annual Salary) 10 लाख रुपये से ज्यादा है, तो आपको अपनी कमाई (Salary) का एक बड़ा हिस्सा टैक्स (Income Tax) के रूप में सरकार को देना पड़ता है. हालांकि, आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि किस तरह से आप आयकर (Income Tax) बचा सकते हैं. अगर आपकी सैलरी 10.5 लाख रुपये सालाना है तो भी आपको एक रुपये का टैक्स नहीं देना पड़ेगा.

Also Read:

यहां जानिए टैक्स बचाने की तरीका

  1. इसके लिए आपको बचत और खर्च को इस तरह रखना होगा कि आप इस पर मिलने वाली टैक्स छूट का पूरा फायदा उठा सकें.
  2. मान लीजिए कि आपकी सालाना सैलरी 10,50,000 रुपये है, और आपकी आयु 60 वर्ष से कम है, इसका मतलब है कि आप 30% स्लैब के अंतर्गत आएंगे.
  3. इसमें सबसे पहले आप मानक कटौती के रूप में 50, 000 रुपये निकाल दें.
    10,50,000-50,000 = 10,00,000 रुपये
  4. इसके बाद आप 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये बचा सकते हैं. इसमें आप दो बच्चों की ट्यूशन फीस के रूप में ईपीएफ, पीपीएफ, ईएलएसएस, एनएससी और सालाना 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर आयकर छूट का लाभ उठा सकते हैं.
    10,000,000- 1,50,000 = 8,50,000 रुपये
  5. अगर आप नेशनल पेंशन सिस्टम या NPS में सालाना 50,000 रुपये तक निवेश करते हैं तो इनकम टैक्स एक्ट की धारा 80CCD (1B) के तहत आपको इनकम टैक्स में छूट मिल सकती है.
    8,50,000-50,0000 = 8,00,000 रुपये
  6. वहीं, अगर आपने होम लोन लिया है तो आप इनकम टैक्स की धारा 24बी के तहत 2 लाख के ब्याज पर टैक्स छूट का दावा कर सकते हैं.
    8,00,000-2,00,000 = 6,00,000 रुपये
  7. अब आयकर की धारा 80डी के तहत कोई व्यक्ति स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम के लिए 25,000 रुपये तक की कटौती का दावा कर सकता है, जिसमें पति या पत्नी, बच्चों और खुद के लिए निवारक स्वास्थ्य जांच की लागत शामिल है. इसके अलावा अगर आप माता-पिता के लिए हेल्थ इंश्योरेंस खरीदते हैं तो आपको 50,000 रुपये तक की अतिरिक्त छूट मिल सकती है. शर्त यह है कि माता-पिता वरिष्ठ नागरिक हों.
    6,00,000-75,000 = 5,25,000 रुपये
  8. आयकर की धारा 80जी के तहत, आप संगठनों को दान या दान के रूप में दी गई राशि पर कर कटौती का दावा कर सकते हैं. मान लीजिए आपने 25,000 रुपये का दान दिया है, तो आप उस पर टैक्स छूट ले सकते हैं. हालांकि, आपको इसकी पुष्टि करने के लिए दस्तावेज जमा करने होंगे. जिस संस्था को आप दान या दान करते हैं, उस संस्था से एक रसीद प्राप्त होनी चाहिए. यह उस दान का प्रमाण होगा जिसे कर कटौती के समय जमा करना होगा.
    5,25,000-25,000 = 5,00,000 रुपये

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 6, 2022 1:14 PM IST