नई दिल्ली: दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा ने शनिवार को कहा कि दूरसंचार उपकरण विनिर्माता कंपनियों ने देश में 4,000 करोड़ रुपए से अधिक का निवेश करने की प्रतिबद्धता जताई. सिन्हा ने कहा कि आईएमसी में हुई घोषणा और बातचीत यह दर्शाती है कि भारत 5जी सेवाओं के लिए तैयार है. 5जी सेवाओं से देश में अत्याधुनिक संचार सेवाएं शुरू हो सकेंगी. वहीं, दूरसंचार सचिव अरुणा सुंदरराजन ने कहा, “यह सभी निवेश अगले एक से दो साल में किए जाएंगे.”

आईआरएस अधिकारी एसके मिश्रा ईडी प्रमुख बने, लेंगे करनाल सिंह की जगह

सिन्हा ने यहां मीडियाकर्मियों को बताया, “हम दूरसंचार कंपनियों से 2,000 करोड़ रुपए निवेश की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन भारत मोबाइल कांग्रेस (आईएमसी) कार्यक्रम में हमारी चर्चा के दौरान कंपनियों ने 4,000 करोड़ रुपए से अधिक निवेश करने की प्रतिबद्धता जताई.”

गुजरात में पीएम मोदी, सीएम रूपाणी और ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ के पोस्टरों को फाड़ा और कालिख पोती

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एरिक्सन, सैमसंग, स्टरलाइट टेक, सिस्को, नोकिया और इंटेल ने बड़ा निवेश करने की प्रतिबद्धता जताई है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय डिजिटल संचार नीति अभी घोषित ही हुई है और देश में इतनी बड़ी मात्रा में निवेश आने की तैयारी में है. यह अभी शुरुआत मात्र है.

श्रीलंका: प्रेसिडेंट सिरिसेना ने राजपक्षे को पीएम नियुक्त करने के लिए जारी किए गजट नोटिफिकेशन

सिन्हा ने कहा कि आईएमसी में हुई घोषणा और बातचीत यह दर्शाती है कि भारत 5जी सेवाओं के लिए तैयार है. 5जी सेवाओं से देश में अत्याधुनिक संचार सेवाए शुरू हो सकेंगी. दूरसंचार सचिव अरुणा सुंदरराजन ने कहा, “यह सभी निवेश अगले एक से दो साल में किए जाएंगे.”