Indian Railway Fare: कोरोना के नाम भारतीय रेलवे ने यात्रियों की जेब पर बड़ा बोझ डाला है. देश के तमाम रेलवे जोन्स ने पैसेंजर्स ट्रेन किराये के साथ-साथ प्लैटफॉर्म टिकटों के दाम 3 से 5 गुना तक बढ़ा दिए हैं. राजधानी दिल्ली में प्रमुख स्टेशनों के लिए प्लैटफॉर्म टिकट सेवा को फिर से शुरू कर दिया गया है. इसे कोरोना संकट के दौरान स्थगित कर दिया गया था. लेकिन रेलवे ने प्लैटफॉर्म टिकट के दाम में तीन गुना तक इजाफा कर दिया है. बता दें कि पहले प्लैटफॉर्म टिकट के लिए आपको 10 रुपये खर्च करने पड़ते थे लेकिन अब इसी के आपको 30 रुपये भुगतान करने होंगे.  उधर सेंट्रल रेलवे ने प्लैटफॉर्म टिकटों के दाम पांच गुना बढ़ा दिए हैं. अब रेलवे ने कहा है कि बढ़ी हुई दर 15 जून तक प्रभावी रहेगी.Also Read - 5 रेलवे स्टेशन ऐसे खूबसूरत दिखाई देंगे, PM मोदी गुरुवार को रखेंगे पुनर्विकास की आधारशिला

यही नहीं रेलवे द्वारा पैसेजर्स ट्रेनों के किराए में भी बढ़ोतरी कर दी गई है. पैसेंजर ट्रेनों की सेवाओं को अब शुरू कर दिया गया है. ऐसे में अब लोकल से यात्रा करने वालों को 10 रुपये के बजाय 30 रुपये देने होंगे. यानी अगर आप दिल्ली से गाजियाबाद की जो टिकट 10 रुपये में खरीदते थे अब उसके लिए आपको 30 रुपये देने होंगे. Also Read - असम बाढ़: हालात में मामूली सुधार, मरने वालों की संख्या हुई 25; रेलवे सेवाएं अभी भी बधित

दिल्ली के अलावा अगर मुंबई की बात करें तो प्लैटफॉर्म टिकट के रेट को 5 गुना तक बढ़ा दिया गया है. सेंट्रल रेलवे ने मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन के कुछ प्रमुख स्टेशनों के लिए प्लैटफॉर्म टिकट के रेट को बढ़ा दिया है. छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, लोकमान्य तिलक टर्मिनस, दादर अब आपको 50 रुपये का भुगतान प्लैटफॉर्म टिकट के लिए करना होगा. Also Read - पंजाब के जरिए पूरे देश को दहलाने की साजिश रच रहा है ISI, खुफिया एजेंसियों ने जारी किया अलर्ट

बता दें कि कोरोना के कारण देशभर में ट्रेन व्यवस्थाएं बाधित हैं. भारतीय रेलवे अपनी पूरी क्षमता के साथ अभी संचालित नहीं की जा रही है. ऐसे में दूसरे राज्यों में जाने वाले लोगों को अक्सर रेलवे स्टेशनों पर लोग छोड़ने आते हैं. इस बाबत उन्हें प्लैटफॉर्म टिकट लेना अनिवार्य है. कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण प्लैटफॉर्म टिकट की सुविधा को बंद कर दिया गया था. लेकिन एक बार फिर इस सेवा को शुरू किया जा रहा है. ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि रेलवे स्टेशनों पर भीड़ न बढ़े.