मुंबई: अमेरिकी ब्रोकरेज फर्म बीओएफए सिक्योरिटीज ने कहा कि वह जिन गतिविधि संकेतकों पर नजर रखती है, उनके मुताबिक भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) ‘‘कमजोर’’ बनी हुई है. सकारात्मक पक्ष के बारे में ब्रोकरेज फर्म ने कहा कि ऋण की मांग अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंच चुकी है, यानी यहां से अब मांग बढ़ने के आसार हैं. Also Read - Petrol-Diesel Price Hike: सरकार को क्यों घटानी चाहिए पेट्रोल-डीज़ल की कीमतें? | Watch Video

थोक मुद्रास्फीति में गिरावट के साथ ही वास्तविक उधारी दरें समायोजित हुई हैं. सरकार को उम्मीद है कि महामारी के चलते वित्त वर्ष 2020-2021 में जीडीपी 7.7 प्रतिशत घटेगी. ब्रोकरेज फर्म ने कहा, ‘‘बुरी खबर यह है कि हमारे बोफा भारत गतिविधि सूचकांग में जारी गिरावट हमारे नजरिए को मजबूत करती है कि अर्थव्यवस्था अभी भी कमजोर बनी हुई है.’’ Also Read - Budget 2021: आम बजट पर आज चर्चा करने के लिए प्रमुख अर्थशास्त्रियों से आज मिलेंगे पीएम, अर्थव्यवस्था को बूस्ट करने के उपायों पर लेंगे राय

ब्रोकरेज फर्म ने कहा कि सूचकांक में नवंबर के दौरान 0.6 प्रतिशत की गिरावट हुई, जबकि अक्टूबर में यह आंकड़ा नकारात्मक 0.8 प्रतिशत और सितंबर में नकारात्मक 4.6 प्रतिशत था. Also Read - Kisan Andolan: किसानों के आन्दोलन से अर्थव्यवस्था को रोजाना लग रही है 3,500 करोड़ रुपये की चपतः एसोचैम