नई दिल्ली: प्याज, टमाटर, लहसुन की महंगाई की मार झेल रहे उपभोक्ताओं को अब इस त्योहारी सीजन में चीनी, चना उड़द समेत कई जरूरी वस्तुओं के लिए अपनी जेब ढीली करनी पड़ रही है। नवरात्र का त्योहार शुरू होते ही खासतौर से पूजा में काम आने वाली वस्तुओं में फूल और नारियल के दाम में जोरदार इजाफा हुआ है। दिल्ली में फूल का भाव जो चार दिन पहले 50-70 रुपये प्रति किलो था वह अब 200-300 रुपये प्रति किलो हो गया है। वहीं, 20 रुपये में बिकने वाला नारियल अब 25-30 रुपये बिकने लगा है। मखाना का भाव 800 रुपये प्रति किलो है। इसमें भी 50 रुपये प्रति किलो का इजाफा हुआ है।

त्योहारी सीजन चीनी और चने कीमतों में भी इजाफा हुआ है।

उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय की वेबसाइट पर दी गई खुदरा कीमतों सूची के अनुसार, चीनी का दाम बीते एक महीने सिर्फ एक रुपया प्रति किलो की वृद्धि हुई है, लेकिन कारोबारी ने बताया कि बीते एक महीने में चीनी का थोक भाव तकरीबन 300 रुपये प्रति कुंटल बढ़ गया है। मंत्रालय की कीमत सूची के अनुसार, दिल्ली में एक सितंबर को चीनी का खुदरा मूल्य 39 रुपये प्रति किलो था जबकि 30 सितंबर को 40 रुपये प्रति किलो।

वहीं, दिल्ली के चीनी कारोबारी सुशील कुमार ने बताया कि देश की राजधानी में सोमवार को चीनी का थोक भाव 3,780-3,930 रुपये प्रति कुंटल था जबकि खुदरा भाव 42-47 रुपये प्रति किलो चल रहा था। मंत्रालय की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली में चना एक सितंबर को 73 रुपये प्रति किलो था जबकि 30 सितंबर को 74 रुपये प्रति किलो। उड़द की दाल एक महीने में 84 रुपये से बढ़कर 87 रुपये प्रति किलो हो गई है। दिल्ली की लॉरेंस रोड मंडी में चने का भाव मंगलवार को 4,350 रुपये प्रति कुंटल था। कारोबारियों ने बताया कि पिछले एक महीने में चने के भाव में 200 रुपये से ज्यादा का इजाफा हुआ है।

कारोबारियों ने बताया कि सितंबर में हुई भारी बारिश और बाढ़ के कारण सब्जियों की फसल नष्ट होने के कारण दाल की खपत बढ़ गई है और चना इस समय सबसे सस्ती दाल है जिसका उपयोग बेसन के रूप में अब ज्यादा होने लगा है क्योंकि मटर की दाल चने से महंगी है। मंत्रालय की वेबसाई पर दी गई कीमत सूची के अनुसार हालांकि तुअर और मूंग के दाम में कोई खास बदलाव नहीं हुआ है, लेकिन प्याज का भाव दिल्ली में एक महीने में 42 रुपये से बढ़कर 58 रुपये और टमाटर का भाव 37 रुपये से बढ़कर 45 रुपये प्रति किलो हो गया है।

गौरतलब है कि एक सप्ताह पहले देशभर में प्याज का दाम आसमान छूने लगा था, जिसके बाद सरकार ने प्याज के दाम को काबू में रखने के लिए इसके निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने के साथ-साथ खुदरा और थोक कारोबारियों के लिए प्याज की स्टॉक सीमा तय कर दी है। खुदरा व्यापारियों के लिए प्याज की स्टॉक सीमा 100 कुंटल जबकि थोक कारोबारियों के लिए 500 कुंटल तय की गई है। बीते एक महीने में देश में लहसुन की कीमत तकरीबन 40 फीसदी बढ़ी है। दिल्ली में इस समय लहसुन 200 रुपये प्रति किलो है।

(इनपुट आईएएनएस)