नई दिल्ली: आईफोन बनाने वाली कंपनी एप्पल ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में घरेलू बाजार में आईफोन बिक्री में दहाई अंक की वृद्धि दर्ज की है. इसके अलावा आईपैड की मांग में भी बढ़त देखी गयी है. समीक्षावधि में कंपनी की वैश्विक परिचालन से आय सालाना आधार पर नौ प्रतिशत बढ़कर 91.8 अरब डॉलर रही है. इस दौरान कंपनी को 22 अरब डॉलर का शुद्ध लाभ हुआ. यह कंपनी का अब तक का सबसे अच्छा तिमाही परिणाम है. कंपनी की कुल बिक्री में अंतराष्ट्रीय बिक्री की हिस्सेदारी 61 प्रतिशत है.

इस बारे में कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टिम कुक ने कहा कि अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और सिंगापुर समेत कई विकसित बाजारों में हमने बिक्री में दोहरे अंक की वृद्धि दर्ज की है. वहीं ब्राजील, चीन, भारत, थाईलैंड और तुर्की जैसी उभरती अर्थव्यवस्थाओं के बाजार में भी हमने दोहरे अंक की वृद्धि दर्ज की है. कुक ने कहा कि एप्पल की अब तक की इस सबसे अधिक तिमाही आय से हम रोमांचित हैं. इसकी प्रमुख वजह आईफोन-11 और आईफोन-11 प्रो की मांग बेहतर रहने के साथ कंपनी की डिजिटल सेवाओं और पहनने वाले प्रौद्योगिकी उपकरणों की बिक्री बढ़ना है.

आईफोन-11, आईफोन-11 प्रो और आईफोन-11 प्रो मैक्स जैसे मॉडल की मांग ज्यादा
कुक ने कहा कि आईफोन-11, आईफोन-11 प्रो और आईफोन-11 प्रो मैक्स जैसे मॉडल की उल्लेखनीय मांग के चलते दिसंबर तिमाही में आईफोन की बिक्री सालाना आधार पर आठ प्रतिशत बढ़कर 56 अरब डॉलर रही. उन्होंने कहा कि मेक्सिको, भारत, तुर्की, पोलैंड, थाईलैंड, मलेशिया, फिलीपींस और वियतनाम जैसे उभरते बाजारों में आईपैड की बिक्री में भी वृद्धि देखी गयी है. समीक्षावधि में एप्पल के पर्सनल कंप्यूटर मैक और आईपैड से कंपनी को क्रमश: 7.2 अरब डॉलर और छह अरब डॉलर की आय हुई है.

भारत में आईफोन एक्सआर का विनिर्माण शुरू
कंपनी ने पिछले साल घरेलू बिक्री और निर्यात के लिए भारत में आईफोन एक्सआर का विनिर्माण शुरू किया है. एप्पल की सहयोगी कंपनी सलकॉम्प भी चेन्नई के पास सेज में नोकिया के बंद हो चुके संयंत्र का अधिग्रहण कर रही है. इस संयंत्र के इस साल मार्च तक शुरू होने की उम्मीद है. कंपनी अपने स्मार्ट स्पीकर ‘होमपॉड’ को भी भारतीय बाजार में पेश करेगीं. हालांकि, अभी इसकी तारीख की घोषणा नहीं की गयी है. इसकी कीमत 19,900 रुपये रहने की संभावना है. यह भारतीय बाजार में गूगल होम और अमेजन एलेक्सा से प्रतिस्पर्धा करेगा.