IRCTC News today 18 May: कोरोना संकट के कारण लॉकडाउन के बीच केंद्र सरकार ने 12 मई से देश में ट्रेन सेवाओं को आंशिक तौर पर खोल दिया. 12 मई से नई दिल्ली से देश के अलग-अलग हिस्सों के लिए 15 जोड़ी ट्रेनें चलाई जा रही हैं. इन ट्रेनों में टिकट के लिए मारामारी की भी खबर आई थी, लेकिन एक मजेदार रिपोर्ट यह है कि बिहार की राजधानी पटना जाने वाली ट्रेन की सभी सीटें नहीं भरीं. देश में बिहार रूट की ट्रेनें सबसे ज्यादा व्यस्त चलती हैं. सच्चाई यह है कि बिहार की ट्रेनों में टिकट पाना हमेशा से टेढ़ी खीर रही है. ऐसे में आखिर क्या हो गया कि देश के प्रमुख शहरों में जाने वाली इन विशेष ट्रेनों में 100 फीसदी बुकिंग होने के बावजूद बिहार की ट्रेन में सीटें खाली रह गईं. Also Read - Indian Railways News: दिल्ली से आज यहां के लिए चलेगी स्पेशल ट्रेन, एसी और स्लीपर में खाली हैं सीटें

रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली और देश के बड़े शहरों के बीच 12 मई से 15 ट्रेनें चलाकर रेलवे द्वारा अपनी यात्री सेवाएं शुरू करने के साथ ही बुधवार को 9000 से अधिक लोग नौ ट्रेनों से राष्ट्रीय राजधानी से विदा हुए. आंकड़े के अनुसार दिल्ली से जो नौ ट्रेनें रवाना हुईं, उनमें से हावड़ा, जम्मू, तिरुवनंतपुरम, चेन्नई, डिब्रूगढ़, मुम्बई, रांची और अहमदाबाद की ट्रेनों में उनकी क्षमता से अधिक बुकिंग थी. बस बिहार की राजधानी पटना विदा हुई ट्रेन में 87 फीसद यात्री ही थे. Also Read - Railways News: श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 9 यात्रियों की मौत के बाद रेलवे ने कहा- प्लीज इस तरह के पैसेंजर्स न करें यात्रा

आधिकारिक आंकड़े के अनुसार बुधवार तक 2,08,965 यात्रियों ने अगले सात दिनों के दौरान सफर के लिए इन स्पेशल ट्रेनों में टिकट बुक कराये थे. एक अधिकारी ने कहा, ‘ओवरबुकिंग का यह मतलब नहीं है कि यात्री ट्रेन में आने जाने की जगह खड़े हैं. इसका बस यह मतलब है लोग ठहराव स्टेशनों पर चढ़ रहे हैं और उतर रहे हैं, इसी वजह से कई बुकिंग है.’ Also Read - Indian Railway Ticket Booking: अब 3 महीने पहले करा सकते हैं रेलवे टिकट की एडवांस बुकिंग, जानें सबकुछ

पटना की ट्रेन में कम यात्रियों की वजह के बारे में अधिकारियों का कहना था कि चूंकि एक मई से 100 से अधिक ट्रेनें श्रमिकों को लेकर बिहार गयीं इसलिए इस ट्रेन में क्षमता से कम यात्री थे.