नई दिल्ली: आईआरसीटीसी का IPO (इनीशियल पब्लिक ऑफर) आज सब्सक्रिप्शन के लिए खुल रहा है. IPO से कंपनी 64o करोड़ रुपए जुटाने की उम्मीद कर रही है. IPO के लिए सब्सक्रिप्शन 3 अक्टूबर तक होगा. इसके बाद 14 अक्टूबर को IRCTC, NSE और BSE पर इसकी लिस्टिंग होगी. सरकार इसके जरिए IRCTC के 2.01 करोड़ शेयर यानी 12.6 फीसद हिस्सेदारी को बेचना चाह रही है, जिसके बाद कंपनी में सरकार की हिस्सेदारी घटकर 87.4 फीसद रह जाएगी. बता दें कि खुदरा निवेशकों के लिए  IPO का मिनिमम बिड साइज 40 शेयरों का होगा यानी कम से कम 40 शेयरों में निवेश किया जा सकता है.

रिटेल निवेशकों और योग्य आवेदकों को मिलेगी छूट

शेयर की शुरुआती कीमत (इनिशियल प्राइस बैंड) 315 से 320 रुपए तय की गई है. लेकिन रिटेल इन्वेस्टर्स और योग्य आवेदकों को 10 रुपए प्रति शेयर की छूट दी जाएगी. जिससे रिटेल इन्वेस्टर्स और योग्य आवेदकों के लिए यह 305-310 प्रति शेयर होगा. आपको बता दें कि IRCTC भारत में ऑनलाइन रेलवे टिकटिंग सेवा और रेलवे स्टेशनों और ट्रेनों में खानपान की सुविधा उपलब्ध कराती है.

Karva Chauth 2019: IRCTC ने करवा चौथ पर पर्यटकों के लिए शुरू की राजस्थान में विशेष ट्रेन

इस दिन होगा IRCTC के शेयरों का अलॉटमेंट

आईआरसीटीसी के शेयरों के अलॉटमेंट की संभावित तारीख 9 अक्टूबर है. वहीं, कंपनी के शेयर बीएसई और एनएसई एक्सचेंज पर संभावित तारीख 14 अक्टूबर को लिस्टेड हो सकते हैं. कंपनी के शेयरों के लिए न्यूनतम बिड साइज 40 शेयरों की होगी यानी कम से कम 40 शेयरों में निवेश करना होगा. इस तरह रिटेल इन्वेस्टर को 305 से 310 रुपए प्रति शेयर के प्राइस बैंड के हिसाब से एक लॉट कम से कम 12,200 से 12,400 के बीच पड़ेगा.

आईआरसीटीसी आईपीओ- रिटेल का है इतना पोर्शन

आपको बता दें कि आईआरसीटीसी आईपीओ के 35 फीसदी का आवंटन रिटेल के लिए रखा गया है. रिटेल इन्वेस्टर्स को 2 लाख रुपए तक के शेयर खरीदने की अनुमति है. इस तरह रिटेल इन्वेस्टर्स निम्न प्राइस बैंड के अधिकतम 640 शेयर या 16 लॉट्स (1,95,200 रुपए) और उच्च प्राइस बैंड के भी 640 शेयर या 16 लॉट्स (1,95,200-1,98,400) खरीद सकते हैं.

मिनिरत्न कंपनी है IRCTC

IRCTC एक मिनिरत्न कंपनी है, जो रेलवे टी टिकट बुकिंग, ट्रेवल और टूरिज्म प्लानिंग और रेल यात्राओं में कैटरिंग सेवाएं देती है. रेल नीर भी इसी का ब्रांड है. कंपनी के रेवेन्यू में कैटरिंग की 55 फीसदी, ट्रेवल एंड टूरिज्म की 23.3 फीसदी, ई-टिकटिंग की 12.3 फीसदी और पानी की 9.2 फीसदी हिस्सेदारी है. सरकार इसमें 12.6 फीसदी हिस्सेदारी निलामी के लिए पेश कर रही है.