ITR Filing Compliance Check Facility: अब इनकम टैक्स नहीं भरने वाले लोगों को आयकर विभाग (ITD) की नजरों से बच पाना काफी मुश्किल होने जा रहा है, क्योंकि अब नये नियमों के मुताबिक बैंक और पोस्ट ऑफिस (Bank and Post Office) भी आपके आईटीआर की स्थिति को चेक करेंगे. अगर आपने पिछले तीन साल से लगातार आईटीआर (ITR) नहीं भरा है और सीमा से अधिक बैंकों में पोस्ट ऑफिस से लेन-देन किया है तो आपके खाते ऑटोमेटिक तरीके टीडीएस कट जाएगा. अगर आपने एक वित्तीय वर्ष में 20 लाख रुपये से ज्यादा की निकासी (Cash withdrawal) की है तो उस पर टीडीएस (TDS) काटने का नियम लागू होगा. हाल ही में आयकर विभाग ने अधिसूचित कामर्शियल बैंकों को भी इसमें शामिल किया है.Also Read - टैक्सेबल सैलरी से ज्यादा कटा है टीडीएस, तो जानिए कैसे करें रिफंड के लिए क्लेम?

आयकर विभाग (ITD) ने बैंकों और पोस्ट ऑफिसेज को आईटीआर (ITR) को जांचने की सुविधा मुहैया कराई है. इस नियम के तहत बैंक और पोस्ट ऑफिस अब आपके आईटीआर की स्थिति की जांच करेंगे. यही नहीं बैंक और पोस्ट ऑफिस अब आयकर अधिनियम की धारा 194 एन के तहत आपके टीडीएस का निर्धारण भी कर सकेंगे, कि कितना टीडीएस आपके खाते से काटना है. अगर नगद निकासी करने वाले ने पिछले तीन साल में आईटीआर फाइल नहीं किया है और एक वित्त वर्ष में 20 लाख रुपये से अधिक की निकासी की है तो उसे दो फीसदी की दर से टीडीएस जमा करना होगा या सीधे उनके खाते से 2 फीसदी की दर से टीडीएस की कटौती की जाएगी. वहीं, अगर आफने एक करोड़ रुपये से ज्यादा की निकासी की है तो टीडीएस की दर पांच फीसदी होगी. Also Read - अगर आपने बीते वित्त वर्ष में बदली थी नौकरी, तो इन बातों का रखें ध्यान, वर्ना भरना पड़ेगा जुर्माना; यहां चेक करें डिटेल्स

इन नियमों के बदलने को लेकर आयकर विभाग का कहना है कि पिछले कुछ डेटा का परीक्षण किए जाने के बाद यह पाया गया कि कुछ लोग बहुत अधिक नकदी की निकासी करते हैं, लेकिन वे टैक्स नहीं जमा करते हैं. इसकी वजह से बैंकों और पोस्ट ऑफिसों को इसमें शामिल किया गया है. आयकर विभाग ने कॉमर्शियल बैंकों को भी इसमें शामिल कर लिया है. अब कॉमर्शियल बैंक भी आईटीआर फाइलिंग के काम्पलांयस को चेक कर पाएंगे. इससे अब ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच हो पाएगी. ग्राहकों के पैन नंबरों के जरिए उनके खातों की जांच की जा सकेगी. साथ ही इसकी भी जांच हो पाएगी कि उनके आईटीआर की स्थिति क्या है? Also Read - सीबीडीटी ने क्रिप्टो, डिजिटल संपत्तियों के लिए टीडीएस खुलासा करने की जरूरतों के बारे में जारी की अधिसूचना