Kisan Special Train: किसानों के इस विरोध प्रदर्शन के दौरान, नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर रेलवे (एनएफआर) ने शनिवार को कहा कि उसने 11 फरवरी से अगरतला से हावड़ा और सियालदह तक नार्थ-ईस्ट क्षेत्र के लिए किसान विशेष ट्रेनें चलाने का फैसला किया है.Also Read - West Bengal के 7 जिलों में बाढ़ की स्थिति गंभीर, 3 लाख लोग प्रभावित

ताजा जानकारी के मुताबिक, किसान स्पेशल ट्रेन गुरुवार को सप्ताह में एक बार शाम 7:15 बजे अगरतला से रवाना होगी और शनिवार को सियालदह पहुंचेगी. Also Read - Indian Railways/IRCTC: पूर्वी रेलवे ने कैंसिल की 7 जोड़ी ट्रेनें, नहीं मिल रहे यात्री; यहां देखें सभी रद्द ट्रेनों की फुल लिस्ट

रेलवे ने कहा कि किसान स्पेशल ट्रेन का धर्मनगर, बदरपुर, लुमडिंग, गुवाहाटी, कामाख्या, गोलपारा, न्यू बोंगईगांव, न्यू अलीपुरद्वार, न्यू कूचबिहार, न्यू जलपाईगुड़ी, मालदा टाउन, कल्तिपुर, बर्धमान और बांदेल में लोडिंग / अनलोडिंग के लिए स्टॉपेज होगा. एनएफ रेलवे द्वारा जारी बयान में कहा गया है. Also Read - West Bengal में रोड शो करने पहुंचे अमित शाह ने रिक्‍शा चालक के घर खाना खाया

भारतीय रेलवे ने दूध, मांस और मछली सहित नाशपाती और कृषि उत्पाद के परिवहन के लिए किसान रेल ट्रेन सेवा शुरू की है, मुख्य पीआरओ, एनएफ रेलवे, सुभान चंदा ने जारी बयान में कहा है.

इन किसान विशेष गाड़ियों को समय-समय पर चलने वाले रास्तों पर चलाया जाता है और किसी भी मार्ग पर रोककर और देरी से बचने के लिए उनकी समय की पाबंदी पर सख्त निगरानी रखी जाती है.

रेलवे ने कहा कि मल्टी-कमोडिटी, मल्टी-कंसाइनर / कंसाइन, मल्टी-लोडिंग/अनलोडिंग ट्रांसपोर्टेशन उत्पाद का उद्देश्य हमारे किसानों को एक व्यापक बाजार उपलब्ध कराना है.

किसान रेल के जरिए चाय, रबड़, हल्दी, काली मिर्च, सरसों, सोयाबीन, सुपारी, अनानास, अदरक, कीवी, जुनून फल, मिर्च (हरी), बड़ी इलायची और फल और सब्जियां ले जाई जाएंगी. किसान ट्रेनों के माध्यम से फल और सब्जियों के परिवहन पर 50 फीसदी की सब्सिडी दी जा रही है.