Lakshmi Vilas Bank News: डीबीएस बैंक इंडिया (DBS Bank India) ने सोमवार को बताया कि लक्ष्मी विलास बैंक (LVB) के ग्राहक सभी तरह की बैंकिंग सुविधाओं का लाभ उठाना जारी रख सकते हैं और सेविंग्स एवं फिक्स्ड डिपोजिट पर ब्याज दर में फिलहाल किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है. बैंक की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया है कि लक्ष्मी विलास बैंक का DBS Bank India Ltd (DBIL) में विलय किया गया है. डीबीएस बैंक इंडिया लिमिटेड (DBIL) डीबीएस ग्रुप होल्डिंस लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी है. बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट, 1949 की धारा 45 के तहत सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक को प्राप्त विशेष अधिकार के तहत DBS Bank India में LVB का विलय 27 नवंबर से प्रभावी हो गया है. Also Read - Lakshmi Vilas Bank News: लक्ष्मी विलास बैंक के प्रमोटर्स को बॉम्बे हाई कोर्ट से नहीं मिली अंतरिम राहत

इस विलय से LVB के ग्राहकों, जमाकर्ताओं और कर्मचारियों के लिए बेहतर परिदृश्य उत्पन्न होने की संभावना है, जो पिछले कुछ समय से अनिश्चितता में थे. LVB पर लगाए गए मोरेटोरियम को 27 नवंबर को हटा लिया गया और बैंकिंग सेवाओं को तत्काल प्रभाव से पुनः बहाल कर दिया गया. इसके बाद बैंक की सभी शाखाएं, डिजिटल चैनल और एटीएम पूर्व की तरह काम करने लगे थे. Also Read - Lakshmi Vilas Bank News: आज के बाद नहीं होगी लक्ष्मी विलास बैंक के शेयर की ट्रेडिंग, शेयर धारकों को होगा भारी नुकसान

DBS Bank ने बयान में कहा है, ”LVB के ग्राहक सभी बैंकिंग सुविधाओं का लाभ उठाना जारी रख सकते हैं. अगले नोटिस तक सेविंग बैंक अकाउंट और फिक्स्ड डिपोजिट पर पूर्ववर्ती LVB द्वारा दिया जा रहा ब्याज ही जारी रहेगा.” Also Read - Lakshmi Vilas Bank News Update: लक्ष्मी विलास बैंक के शेयर में छठे दिन बिकवाली का दौरा जारी, 53 फीसदी टूट चुके हैं शेयर के भाव

बैंक ने कहा है कि LVB के सभी कर्मचारियों को सर्विस में बनाया रखा जाएगा और वे समान सेवा शर्तों के तहत अब DBIL के कर्मचारी होंगे.

DBS Bank ने कहा है कि उसकी टीम LVB के सिस्टम और नेटवर्क के DBS में इंटीग्रेट करने के लिए LVB के अपने सहकर्मियों के साथ काम कर रही है. बैंक ने कहा है कि एक बार सिस्टम के एकीकरण के बाद ग्राहकों को ज्यादा उत्पाद एवं सेवाओं का लाभ मिलेगा.