पटना: बिहार (Bihar) में लीची (Litchi) के किसानों की अब किस्मत बदलने वाली है. इसके लिए कोका कोला (इंडिया) कंपनी 11 हजार करोड़ रुपये का निवेश करेगी. ‘उन्नत लीची परियोजना’ की शुरुआत कोका कोला (इंडिया) कंपनी, राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केन्द्र और देहात (बिहार की ही एक संस्था) ने मिलकर शुरू किया है. बिहार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने यहां बताया, “इस योजना के तहत लगभग 80 हजार लीची उत्पादक किसानों को प्रशिक्षण दिया जाएगा तथा 3000 एकड़ में पुराने लीची बागों का जीर्णोद्घार किया जाएगा. इसके साथ ही नई तकनीक से लीची के नए बाग लगाने का लक्ष्य रखा गया है.” Also Read - Bihar Lychee Farmers: पहले से ही मौसम की मार झेल रहे बिहार के लीची किसानों को अब सताने लगा कोरोना का डर

उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत कंपनी मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर और वैशाली जिलों में लीची के उत्पादन बढ़ाने का काम करेगी. इसके साथ ही लीची किसानों और इस व्यवसाय से जुड़े लोगों की बेहतरी के लिए काम किया जाएगा. कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने बताया, “मुजफ्फरपुर में लीची का एक ‘स्टेट ऑफ द आर्ट’ (अत्याधुनिक) बाग लगाया जाएगा, जहां किसानों को आधुनिक प्रशिक्षण दिया जाएगा. इस परियोजना में कोका कोला इंडिया 11000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी.” Also Read - अनिल विज ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को लिखा पत्र, 'प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत फिर शुरू करें'

प्रेम कुमार ने दावा किया कि हाल ही में सरकार के प्रयास से शाही लीची, जर्दालु आम, मगही पान, कतरनी धान को जी़ आई़ टैग मिला है, जिससे इन फसल उत्पादों को अंतर्राष्ट्रीय ख्याति मिली है. उन्होंने कहा, “हमारा प्रयास इन फसल उत्पादों को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक से अधिक मूल्य दिलाने का है. इसी कड़ी में बहुराष्ट्रीय कंपनी कोका कोला, राज्य के शाही लीची एवं चाईना लीची के क्षेत्र में सहयोग करने जा रही है.” Also Read - Farmers Protest: 10 अप्रैल को केएमपी एक्सप्रेस-वे 24 घंटे के लिए बंद रखेंगे किसान, लोगों संग अच्छे व्यवहार का वादा