Lockdown in India: जापान की ब्रोकरेज कंपनी नोमुरा ने सोमवार को कहा कि गुजरात, दिल्ली, मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में फिर से लॉकडाउन आर्थिक सुधार की रफ्तार धीमी पड़ सकती है. नोमुरा के मुताबिक, इससे बाजार की गतिविधियों के दोबारा शुरू करने का परिदृश्य चिंताजनक बना रहेगा. नोमुरा ने महामारी के बाद बाजार की गतिविधियों में सुधार को मापने का सूचकांक तैयार किया है. Also Read - संकटग्रस्त भारतीय कंपनियों को हथियाने की फिराक में चीन, बीते आठ माह में आए 13,000 करोड़ के FDI प्रस्ताव 

नोमुरा ने बताया कि 22 नवंबर को समाप्त सप्ताह में सूचकांक ने हल्की सी बढ़त हासिल की है. लेकिन यह अभी भी कोरोना महामारी से पूर्व के स्तर से नीचे है. सूचकांक में एप्पल की स्थिति में तीव्र सुधार देखा गया है जो अंतत: कोरोना से पूर्व के स्तर पर पहुंच गई है. वहीं गूगल में सुधार जारी है. हालांकि बहुत से राज्यों में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के चलते स्थानीय लॉकडाउन लगाए जा रहे हैं. इसे लेकर विश्लेषकों में चिंता है. Also Read - Employment News: अभी से हो जाएं तैयार, साल 2021 में आएगी नौकरियों की बहार; कंपनियां देंगी अच्छी सैलरी का ऑफर

नोमुरा ने चेतावनी दी है कि लॉकडाउन अगले दो से तीन महीनों में क्रमिक सुधार की रफ्तार को कम कर सकते हैं. Also Read - Indian Economy: अगले वित्त वर्ष में 10 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करेगी भारतीय अर्थव्यवस्था: रिपोर्ट

गौरतलब है कि महाराष्ट्र ने सोमवार को कोविड-19 संक्रमण का ज्यादा सामना कर रहे राज्यों से यात्रा करने वालों के लिए मानक परिचालन प्रोटोकॉल जारी किए. जिन राज्यों में संक्रमण के शुरुआती दिनों में ज्यादा मामले सामने आए थे उन्होंने भी चेतावनी जारी की है कि महामारी की दूसरी लहर सुनामी की तरह आ सकती है और इसके वजह से वह जल्द लॉकडाउन कर सकते हैं.

नोमुरा ने कहा कि वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां लगातार इस पर काम कर रही हैं और इसमें प्रगति भी देखी जा रही है. लेकिन इससे कितनी सुरक्षा होगी यह तय नहीं है.