कोयंबटूर: मॉरीशस ने शनिवार को भारतीय उद्योगपतियों से निवेश का आह्वान करते हुये कहा कि वह द्वीपीय देश में व्यावसायिक संभावनाओं की तलाश करें. भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की स्थानीय शाखा के सदस्यों के साथ बातचीत के बाद मारीशस के उप-राष्ट्रपति पारामासिवुम पिल्लई वयापूरी ने निर्माण, सूचना एवं दूरसंचार प्रौद्योगिकी, फिल्म विकास और विनिर्माण क्षेत्र से जुड़े उद्योगपतियों से मारीशस की यात्रा करने और वहां कारोबारी संभावनाओं की खोज करने को कहा. इस अवसर पर बड़ी संख्या में युवा उद्यमी भी उपस्थित थे. Also Read - आस्ट्रेलिया के मंत्री का बयान- भारत में निवेश करेंगी 100 से अधिक ऑस्ट्रेलियाई कंपनियां

उन्होंने औद्योगिक प्रतिनिधिमंडल को मारीशस की यात्रा करने और वहां की जरूरतों को समझने पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि भारतीय उद्यमी वहां नया उद्यम अथवा संयुक्त उद्यम शुरू करने की संभावनायें देख सकते हैं. Also Read - बिहार के लीची किसानों की बदलेगी किस्मत, कोका कोला 11 हजार करोड़ रुपये करेगी निवेश

वयापूरी ने कहा कि उनका देश कारोबार सुगमता के मामले में अफ्रीका में शीर्ष पर है. उन्होंने कहा कि मारीशस में हालांकि निवेश की व्यापक संभावनायें हैं लेकिन भारत के मुकाबले वहां श्रमिक लागत ऊंची है. Also Read - 5,000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था के लिए सरकार बड़ा कदम, 102 लाख करोड़ रु. के प्रोजेक्‍ट्स की तैयारी

मारीशस के उप-राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘यह छोटा बाजार है. हम ब्रिटेन को चीनी का उत्पादन और निर्यात करते हैं और अमेरिकी बाजार के लिये परिधान तैयार करते हैं. भारत से चावल और लोंग का आयात करते हैं.’’