लिकर किंग विजय माल्या परेशानियों में फसते नज़र आरहे हैं। बैंको से लिए लोन न चुकाने के कारण इनके खिलाफ सीबीआई ने सख्त उठाते हुए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का दरवाज़ा खटखटाया। आपको बता दें की सीबीआई की इस कोशिश के बाद विजय माल्या पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज़ किया गया है। बैंको से विजय माल्या ने किंगफ़िशर का 7800 करोड़ रुपए का कर्ज होने के साथ स्टेट बैंक का 1600 करोड़ रुपये का कर्ज लिया है।Also Read - Vijay Mallya: लंदन में अपने आलीशान घर से बेदखल होगा विजय माल्या, UBS बैंक को बेचने का अधिकार मिला

Also Read - UP Election: ED के ज्‍वाइंट डायरेक्‍टर ने लिया VRS, BJP के टिकट से लड़ सकते हैं चुनाव

यह मामला उन पर इस कारण दर्ज़ हुआ है क्यों की प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) माल्या से उन पैसे के बारे में सब कुछ जानना चाहती है। वहीं आपको बता दें की काफी समय से बंद पड़ी किंगफिशर एयरलाइंस कर्ज में डूबी हुई है। साथ ही दूसरी तरफ माल्या से एसबीआई ने अपील की है की वह सभी डियाजिओ कंपनी से मिलने वाले क़र्ज़ की राशि को उधार देने वाले बैंको को वापस कर दें। आपको बता दें की आज जो भी फैसला हुआ है उसे डीआरटी ने अपने पास सुरक्षित रखा है। यह भी पढ़ें: विजय माल्या की मुश्किलें बढ़ी, क्या जायेंगे जेल? Also Read - Aishwarya Rai Bachchan से ED ने की छह घंटे तक पूछताछ, पनामा पेपर्स लीक से जुड़ा है मामला

इस मामले को लेकर विजय माल्या पर एसबीआई की पकड़ कस्ती हुए नज़र आरही है। एसबीआई का कहना है की अगर माल्या क़र्ज़ चुकाने में असमर्थ रहते हैं तो उन्हें गिरफ्तार कर उनका पासपोर्ट जब्त करने के लिए मांग की है। वहीं दूसरी तरफ एसबीआई ने डीआरटी के सामने अपनी 3 याचिका रखी है। जिसपर डीआरटी का कहना है की वह धीरे धीरे सारी याचिका पर सवाई करेगी। वहीं 17 प्राइवेट बैंक भी अपने पैसे मिलने की मांग कर रही है।