नई दिल्लीः दूध, दही और सब्जी जैसे उत्पाद बेचने वाली मदर डेयरी ने कहा है कि वह किसी अन्य इकाई से प्रतिस्पर्धा के लिए कंपनी अपने गाय के दूध के दाम काम नहीं करेगी. मदर डेयरी ने यह बात पतजंलि समूह के कम दर पर गाय-दूध के साथ बाजार में उतरने की घोषणा के बाद कही है. मुख्य रूप से राष्ट्रीय राजधानी और दिल्ली के आसपास प्रतिदिन करीब 7 लाख लीटर गाय का दूध बेचने वाली मदर डेयरी ने यह भी भरोसा जताया कि इस खंड में और कंपनियों के आने से उसकी बिक्री मात्रा प्रभावित नहीं होगी.

हरिद्वार की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद ने 40 रुपये लीटर के भाव पर गाय का दूध बाजार में बेचने की घोषणा की है. वहीं मदर डेयरी इसके लिये 42 रुपये लेती है. मदर डेयरी फ्रुट एंड वेजिटेबल प्राइवेट लि. के निदेशक सौगत मित्रा ने कहा, ‘‘हम प्रतिस्पर्धा का स्वागत करते हैं. पतंजलि समूह के प्रवेश से गाय दूध खंड में बाजार का आकार बढ़ेगा. इससे किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मदद मिलेगी.’’

यह पूछे जाने पर कि क्या कंपनी दाम कम करेगी, उन्होंने कहा, ‘‘हम न तो गाय के दूध का दाम बढ़ाएंगे और न ही उसमें कमी लाएंगे.’’ पिछले सप्ताह बाबा रामदेव की पंतजलि आयुर्वेद ने गाय का दूध और दूध के उत्पाद पेश कर इस खंड में दस्तक दी. कंपनी ने वित्त वर्ष 2019-20 तक करीब 1,000 करोड़ रुपये की बिक्री का लक्ष्य रखा है.

अमूल और पराग मिल्क ने भी राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में गाय का दूध पेश किये हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हम राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में पिछले 40 साल से काम कर रहे हैं. हमारे ग्राहक ब्रांड को लेकर निष्ठावान है.’’ मित्रा ने कहा, ‘‘डिब्बाबंद गाय के दूध का बाजार 10-12 लाख टन प्रतिदिन है. हम फिलहाल करीब 7 लाख लीटर प्रतिदिन बेचते हैं और अगले साल मार्च तक 8 लाख लीटर पहुंच जाने का अनुमान है.’’ उन्होंने कहा कि नई कंपनियों के आने से बाजार का आकार बढ़ेगा. कुल मिलाकर मदर डेयरी करीब 36 से 37 लाख लीटर दूध प्रतिदिन आपूर्ति करती है. इसमें से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में 32 लाख लीटर 1,400 खुदरा दुकानों के जरिये बेचे जा रहे हैं.

(इनपुट- भाषा)