Muthoot Finance News: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने मुथूट फायनेंस के प्रस्ताव को खारिज कर दिया है. आरबीआई ने कहा है कि म्यूचुअल फंड को प्रायोजित करने का काम गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) के काम के साथ मेल नहीं खाता है. आरबीआई ने इस संदर्भ में उसके प्रस्‍ताव को खारिज कर दिया है.Also Read - जून में सबसे कम दिन बंद रहेंगे बैंक, काम से निकलने से पहले चेक कर लें छुट्टियों की लिस्ट

बता दें, गोल्‍ड लोन देने वाली एनबीएफसी मुथूट फाइनेंस आईडीबीआई म्‍यूचुअल फंड के कारोबार का अधिग्रहण करने के लिए आरबीआई के पास प्रस्ताव भेजा था. Also Read - RBI Grade B 2022 admit card : आरबीआई ग्रेड बी की फेज-1 परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जारी, ऐसे करें डाउनलोड

आईडीबीआई बैंक ने मंगलवार को शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि मुथूट फाइनेंस को आईडीबीआई म्यूचुअल फंड की बिक्री के संदर्भ में शेयर खरीद समझौते पर हस्ताक्षर 22 नंवबर, 2019 को किए गए थे. यह बिक्री बाजार नियामक सेबी और अन्य नियामकों की जरूरी नियामकीय मंजूरी पर निर्भर थी. Also Read - आरबीआई ने जारी किया अलर्ट, जालसाजों के जाल में न फंसें, रहें सावधान; नहीं तो उठाना पड़ेगा भारी नुकसान

सूचना में कहा गया है, ”मुथूट फाइनेंस की सलाह के आधार पर हम (आईडीबीआई बैंक) यह बताना चाहेंगे कि रिजर्व बैंक से उसे (मुथूट फाइनेंस) गैर-अनापत्ति प्रमापणपत्र की मंजूरी नहीं मिली. केंद्रीय बैंक ने इस आधार पर एनओसी यानी गैर-अनापत्ति प्रमाणपत्र देने से मना कर दिया कि म्यूचुअल फंड को प्रायोजित करना या संपत्ति प्रबंधन कंपनी का जिम्मा संभालना एक एनबीएफसी की गतिविधियों के अनुरूप नहीं है.” मुथूट फाइनेंस ने आइडीबीआई एएमसी और आईडीबीआई एमएफ ट्रस्टी कंपनी में 100 फीसदी इक्विटी शेयर 215 करोड़ रुपये में खरीदने का प्रस्ताव दिया था.

(With agency Inputs)