राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (NCLT) ने मंगलवार को जेट एयरवेज (Jet Airways) के लिए जालान कलरॉक गठजोड़ (Jalan-Kalrock Tie up) की दिवाला समाधान योजना को मंजूरी दे दी.Also Read - Jet Airways फिर उड़ान भरने को तैयार, गृह मंत्रालय से मिला सिक्योरिटी क्लीयरेंस

जेट एयरवेज दो साल से दिवाला एवं ऋणशोधन अक्षमता संहिता (IBC) के तहत समाधान प्रक्रिया से गुजर रही है। विमानन कंपनी ने अप्रैल, 2019 में परिचालन को निलंबित कर दिया था. Also Read - सुपरटेक ऋण शोधन मामले में यूनियन बैंक ने बेहतर निपटान योजना देने को कहा

जेट एयरवेज के ऋणदाताओं की समिति (COC) ने अक्टूबर, 2020 में ब्रिटेन स्थित कलरॉक कैपिटल और यूएई स्थित उद्यमी मुरारी लाल जालान के गठजोड़ द्वारा प्रस्तुत समाधान योजना को मंजूरी दी थी. Also Read - फ्यूचर रिटेल के खिलाफ बैंक ऑफ इंडिया ने किया एनसीएलटी का रुख, दायर की दिवाला याचिका

एनसीएलटी ने जून, 2019 में भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाले ऋणदाताओं के समूह द्वारा जेट एयरवेज के खिलाफ दायर दिवाला याचिका को स्वीकार किया था.

(भाषा)