नई दिल्ली: व्हाट्सएप प्रमुख ने अपने सभी भारतीय उपभोक्ताओं के लिए भुगतान सेवा शुरुआत की औपचारिक अनुमति के वास्ते भारतीय रिजर्व बैंक को पत्र लिखा है. देश में व्हाट्सएप के कुल 20 करोड़ उपभोक्ता हैं. मैसेजिंग एप ने करीब दस लाख उपभोक्ताओं के साथ भुगतान सेवा की प्रायोगिक शुरुआत की थी. हालांकि उसके कई महीने बीत जाने पर भी उसे यह सेवा शुरू करने के लिए उसे नियामक से मंजूरी नहीं मिली है. लोकप्रिय एप करीब दो साल से भुगतान सुविधा की अपनी योजना को लेकर सरकार से संपर्क में है. वहीं उसकी प्रतिद्वंद्वी कंपनी गूगल अपनी भुगतान सेवाओं को आगे बढ़ा चुकी है.

GOOD NEWS: इंफोसिस के कर्मचारियों की सैलरी हो सकती है डबल, कंपनी ने उठाया ऐसा कदम

व्हाट्सएप वर्तमान में प्रायोगिक आधार पर भुगतान सेवाओं का संचालन कर रही है. कंपनी के प्रमुख क्रिस डेनियल ने अब आरबीआई को पत्र लिखकर देश में सभी उपभोक्ताओं को भुगतान सेवा की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए औपचारिक अनुमति देने का आग्रह किया है. डेनियल ने आरबीआई गवर्नर को संबोधित पत्र में कहा है, ‘मैं आपसे व्हाट्सएप की भीम यूपीआई (यूनिफायड पेमेंट इंटरफेस) पर चलने वाले भुगतान उत्पाद को सभी भारतीय उपभोक्ताओं के लिए तत्काल शुरू करने को लेकर औपचारिक अनुमति देने का आग्रह करता हूं. साथ ही हमें डिजिटल सशक्तिकरण और वित्तीय समावेशन के जरिए भारतीय लोगों के जीवन को बेहतर बनाने वाली उपयोगी एवं सुरक्षित सेवा पेश करने का अवसर दीजिए.’

हो जाइए तैयार, चेक बुक, ATM इस्तेमाल और अतिरिक्त क्रेडिट कार्ड के लिए देना पड़ सकता है चार्ज

पांच नवंबर को लिखे गए पत्र में कहा गया है कि व्हाट्सएप के साझीदार बैंकों ने भी औपचारिक अनुमति के लिए पत्र लिखा है. व्हाट्सएप के एक प्रवक्ता ने संपर्क किये जाने पर बताया, ‘आज के समय में भारत में करीब दस लाख लोगों पर व्हाट्सएप भुगतान सेवाओं का परीक्षण किया जा रहा है. लोगों की प्रतिक्रिया बहुत सकारात्मक है और लोग संदेश की तरह सामान्य एवं सुरक्षित तरीके से रुपये भेजने की सुविधा का लाभ भी ले रहे हैं.’