नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शनिवार को नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का बजट पेश करेंगी. यह सीतारमण का दूसरा बजट भी होगा, जो स्वतंत्र भारत के इतिहास में ऐसा करने वाली इंदिरा गांधी के बाद दूसरी महिला वित्त मंत्री बनीं. मार्च 2021 को समाप्त होने वाले वर्ष के लिए सीतारमण पूरे साल का बजट पेश करेंगी.Also Read - एलआईसी के बाद अब आई दो बैंकों के निजीकरण की बारी, कानून में संशोधन के लिए तेज होगी प्रक्रिया

बजट भाषण आज सुबह लगभग 11 बजे शुरू होगा जब सीतारमण इसकी शुरुआत लोकसभा के अध्यक्ष के अभिभाषण से करेंगी. आमतौर पर, प्रस्तुति की अवधि 90 से 120 मिनट तक होती है. वित्त मंत्री ने शुक्रवार को संसद में 2019-20 के लिए बजट पूर्व आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया, जिसमें अर्थव्यवस्था की स्थिति का अनुमान लगाया गया और इन चुनौतियों को रेखांकित किया गया. सर्वेक्षण मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यन द्वारा जारी किया गया था. Also Read - 5 रेलवे स्टेशन ऐसे खूबसूरत दिखाई देंगे, PM मोदी गुरुवार को रखेंगे पुनर्विकास की आधारशिला

केंद्रीय बजट सरकार का वित्तीय विवरण है, जो अतीत में अपने राजस्व और व्यय का विवरण देने के साथ-साथ आने वाले वर्ष के लिए अनुमानित खर्च और अनुमानों का विवरण होता है. सीतारमण ने पिछले साल जुलाई में अपना पहला बजट पेश किया था, जिसके तुरंत बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में केंद्र में भाजपा की अगुवाई वाली सरकार वापस आ गई थी. बता दें कि वर्ष 2016 तक केंद्रीय बजट फरवरी के अंतिम कार्य दिवस को प्रस्तुत किया जाता था. पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2017 में केंद्रीय बजट 1 फरवरी को पेश किए जाने की परंपरा को बदल दिया था. Also Read - खाद्य तेलों की कीमतों में आएगी कमी, भारत ने दिया 20 लाख टन तेल के शुल्क मुक्त आयात की अनुमति