नई दिल्ली: पेट्रोल-डीजल की कीमतें चार माह के अपने सबसे उच्च स्तर पर पहुंच चुकी हैं. गौरतलब है कि अमेरिका ने ड्रोन हमले ईरान के कमांडर कासिम सुलेमानी की हत्या कर दी थी. इसी के जवाबी कार्रवाई में ईरान ने इराक में स्थित अमेरिका के कई सैन्य ठिकानों पर बैलेस्टिक मिसाइलों से हमला किया. खाड़ी क्षेत्र में फिर तनाव गहराने के कारण बुधवार को कच्चे तेल के दाम में जोरदार तेजी आई. ब्रेंट क्रूड का भाव 71 डॉलर के पार चला गया.

लगातार तीन सत्रों की तेजी के बाद कच्चे तेल के दाम में पिछले सत्र में थोड़ी नरमी आई थी, लेकिन अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइल दागे जाने के बाद फिर तेल के दाम में तेजी बनी हुई है. अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर ब्रेंट क्रूड के मार्च डिलीवरी अनुबंध में पिछले सत्र के मुकाबले 2.20 फीसदी की तेजी के साथ 69.80 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था, जबकि कारोबार के दौरान ब्रेंट क्रूड 71.28 डॉलर प्रति बैरल तक उछला. इससे पहले ब्रेंट का दाम 16 सितंबर 2019 को 71.95 डॉलर प्रति बैरल तक चला गया था.

वहीं, न्यूयार्क मर्केंटाइल एक्सचेंज (नायमैक्स) पर अमेरिकी लाइट क्रूड वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) के फरवरी अनुबंध में 1.98 फीसदी की तेजी के साथ 63.94 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था जबकि इससे पहले डब्ल्यूटीआई का दाम 65.65 डॉलर प्रति बैरल तक चला गया था. कमोडिटी बाजार विश्लेषक और एजेंल कमोडिटी के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता ने बताया ईरान की ओर से इराक स्थित अमेरिकी एयर बेस पर मिसाइल दागे जाने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव गहराया गया है जिससे तेल के दाम में तेजी देखी जा रही है.