नई दिल्ली: सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी ONGC और Oil India Limited के 149 छोटे एवं सीमांत तेल और गैस क्षेत्रों को निजी और विदेशी कंपनियों को बेचने के लिये छह सदस्यीय समिति गठित की है. इसका उद्देश्य घरेलू स्तर पर उत्पादन को बढ़ावा देना है, सूत्रों ने यह जानकारी दी. इस समिति के अध्यक्ष नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार हैं. उनके अलावा कैबिनेट सचिव पी के सिन्हा, आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र कुमार, पेट्रोलियम सचिव एम एम कुट्टी, नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत और ओएनजीसी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक शशि शंकर इसमें शामिल हैं.

अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर बुरी खबर, दूसरी तिमाही में GDP में तेज गिरावट

पीएम मोदी ने की थी समीक्षा
रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 अक्टूबर को पेट्रोलियम और गैस के घरेलू उत्पादन की स्थिति की समीक्षा करने और 2022 तक तेल आयात पर निर्भरता 10 प्रतिशत तक कम करने के लिए रूपरेखा पर विचार विमर्श के लिए बैठक बुलाई थी. बैठक के बाद समिति गठित की गई है. बैठक में पेट्रोलियम मंत्रालय ने अपने प्रस्तुतीकरण में कहा कि ONGC और Oil India Limited (ओआईएल) और अन्य के करीब 149 छोटे तेल एवं गैस क्षेत्रों की घरेलू कच्चे तेल उत्पादन में हिस्सेदारी महज पांच प्रतिशत है.

व्यापार घाटे को कम करने के प्रयास को झटका, चीन ने घरेलू मुद्राओं में व्यापार के भारत के प्रस्ताव को ठुकराया

ONGC बड़े क्षेत्रों पर देगी ध्यान !
बैठक में सुझाव दिया गया है कि इन छोटे क्षेत्रों को निजी और विदेशी कंपनियों को दे देना चाहिए और ओएनजीसी को बड़े क्षेत्रों पर ध्यान देना चाहिए. सूत्रों ने कहा कि मंत्रालय का मानना है कि ओएनजीसी को बड़े तेल एवं गैस क्षेत्रों की ओर ध्यान देना चाहिए क्योंकि इनकी घरेलू उत्पादन में 95 प्रतिशत हिस्सेदारी है और छोटे क्षेत्रों को निजी कंपनियों के लिए छोड़ देना चाहिए. उन्होंने कहा कि छह सदस्यीय समिति ने संभावित विकल्पों पर हितधारकों के साथ सलाह-मशवरा शुरू कर दिया है. पेट्रोलियम मंत्रालय द्वारा ओएनजीसी के क्षेत्रों को निजी और विदेशी कंपनियों को देने का यह दूसरा प्रयास है. पिछले साल अक्तूबर में हाइड्रोकार्बन महानिदेशालय (डीजीएच) ने राष्ट्रीय पेट्रोलियम कंपनियों के 15 ऐसे क्षेत्रों की पहचान की थी जिन्हें निजी कंपनियों को दिया जा सकता है. (इनपुट एजेंसी)