Corona Epidemic के वक्त मार्च महीने में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister of India Nirmala Sitharaman) ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज (Pradhan Mantri Garib Kalyan Pakcage) के तहत प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का ऐलान किया था. इसके तहत सभी गरीब परिवारों को जिनके पास राशन कार्ड है, और जिनके पास नहीं है, उन्हें 5 किलो गेहूं/चावल प्रति सदस्य और एक किलो चना अप्रैल से हर महीने मुफ्त में दिया जा रहा है. Also Read - केंद्रीय कर्मचारियों के 20 दिन की Earned Leave लेने की अनिवार्यता का सरकार ने किया खंडन, कहा- अटकलों से बचे मीडिया

यह मुफ्त अनाज राशन कार्ड पर मिलने वाले अनाज के मौजूदा कोटे के अतिरिक्त है. कुछ दिन बाद ही पीएम मोदी ने 30 नवंबर तक बढ़ाने का ऐलान किया था. इसलिए अगर आप इस योजना लाभ अभी तक नहीं लिया है तो आपके लिए बचे हैं मात्र 6 दिन. आप इन 6 दिनों के अंदर अपने हिस्से का राशन ले सकते हैं. Also Read - सरकारी कर्मचारियों-पेंशनरों के लिए बड़ी खुशखबरी, केंद्र सरकार जल्द देगी 28% महंगाई भत्ता

बता दें कि केंद्र सरकार ने ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ स्कीम भी शुरू कर दी है. राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं होने पर लाभार्थी पीडीएस से सस्‍ता राशन नहीं मिलेगा. इसके लिए आपको अपने राशन कार्ड को आधार कार्ड के साथ जुड़वाने के लिए गांव के ई मित्र, पटवारी और ग्राम सचिव अधिकृत हैं. आप इन सभी से मदद ले सकते हैं. इसके अलावा आप खुद ऑनलाइन भी आधार को राशन कार्ड के साथ लिंक करा सकते हैं. Also Read - Bird Flu के खतरे पर केंद्र सरकार का एक्शन, हालात पर नजर रखने के लिए बनाया कंट्रोल रूम

ऐसे कर सकते हैं राशन कार्ड को आधार से लिंक

स्टेप-1: राशन कार्ड को आधार से लिंक करने के लिए यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) की आधिकारिक वेबसाइट uidai.gov.in पर जाएं.
स्टेप-2: इसके बाद ‘Start Now’ ऑप्शन पर क्लिक करें. इसमें पूरा पता भरें. सभी विकल्पों में से ‘Ration Card’ बेनिफिट टाइप को चुनें.
स्टेप-3: इसके बाद राशन कार्ड स्कीम को चुन राशन कार्ड नंबर, आधार नंबर, ई-मेल एड्रेस और मोबाइल नंबर जैसी डिटेल्‍स भरे. इसके बाद आपके रजिस्टर्ड मोबाइल पर आए वन-टाइम पासवर्ड (OTP) को भरें.
स्टेप-4: फिर स्क्रीन पर आए प्रक्रिया पूरी होने के नोटिफिकेशन को पोस्ट करें.
स्टेप-5: आवेदन वेरिफिकेशन होने के बाद राशन कार्ड आधार से लिंक हो जाएगा. 1 जून से 20 राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी सेवा लागू हो गई है.