नई दिल्ली। नए विचारों पर आधारित सस्ते होटलों की सीरीज जोड़ने वाली कंपनी ओयो ने बड़ी छलांग लगाई है. कंपनी ने भारत और अन्य देशों में विस्तार के लिए एक अरब डॉलर (करीब 7,280 करोड़ रुपये) का कोष जुटाया है. कंपनी को सॉफ्टबैंक इन्वेस्टमेंट एडवाइजर्स (एसबीआईए) की अगुवाई में सॉफ्टबैंक विजन फंड के जरिये यह राशि जुटाई है. इस वित्तपोषण दौर में मौजूदा निवेशकों लाइटस्पीड वेंचर्स पार्टनर्स, सिकोया और ग्रीनओक्स कैपिटल ने भी हिस्सा लिया. Also Read - OYO: Now unmarried couples can also book room | अविवाहित कपल्स भी बुक कर सकेंगे होटल में रूम

ओयो ने पहले ही जुटा लिए 80 करोड़ डॉलर

ओयो ने कहा कि उसने 80 करोड़ डॉलर पहले ही जुटा लिए हैं. उसके पास और 20 करोड़ डॉलर के निवेश की प्रतिबद्धता है. कंपनी का इरादा भारत, चीन और अन्य देशों में विस्तार करने का है. सूत्रों ने कहा कि ताजा दौर के वित्त पोषण से ओयो समूह का मूल्यांकन पांच अरब डॉलर के बराबर हो गया है.

भारत सहित 5 देशों में पहुंच बढ़ाई

ओयो के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी रितेश अग्रवाल ने कहा कि पिछले 12 माह में हमने पांच देशों भारत, चीन, मलेशिया और नेपाल और हाल में ब्रिटेन में अपनी पहुंच बढ़ाई है. अग्रवाल ने कहा कि इस अतिरिक्त वित्तपोषण के जरिये हम इन देशों में अपना कारोबार तेजी से बढ़ाएंगे जबकि प्रौद्योगिकी और प्रतिभा में निवेश करते रहेंगे.

कंपनी अपने विशिष्ट मॉडल को वैश्विक स्तर पर पहुंचाने के लिए नई पूंजी लगाएगी. अग्रवाल ने कहा कि इस मॉडल के जरिये छोटे होटलों के मालिक भी गुणवत्ता वाले कमरे पेश कर सकते हैं.उन्होंने कहा कि हम लगातार नए खंडों में अपनी उपस्थिति बढ़ा रहे हैं. ओयो होम, ओयो टाउनहाउस और हाल में पेश पैलेट रिजॉर्ट बाय ओयो के जरिये हमारा पहुंच बढ़ रही है.

चीन में कारोबार पर है नजर

कंपनी इस नए वित्त पोषण में से 60 करोड़ डॉलर चीन के बाजार में अपनी उपस्थिति मजबूत करने पर खर्च करेगी. बाकी राशि वह भारत और अन्य नए बाजारों में अपनी अग्रणी स्थिति को और मजबूत करने पर व्यय करेगी. फिलहाल कंपनी के पास भारत में 1,25,000 कमरे हैं. ओयो की शुरुआत मई, 2013 में हुई थी. फिलहाल कंपनी की 350 शहरों में उपस्थिति है. ओयो के संपत्ति भागीदारों की संख्या 10,000 से अधिक है जो भारत, चीन, मलेशिया, नेपाल और ब्रिटेन में हैं.

(भाषा इनपुट)