Pan Card Importance: आज के समय देश में आर्थिक मामलों के मद्देनजर पैन की आवश्यकता हर जगह पड़ती है. ऐसे में यह जानना बेहद अहम हो जाता है कि आखिरी पैन की जरूरत कहां-कहां पड़ती है. क्योंकि कई बार पैन के कारण आपके काम रुक जाते हैं. भारत सरकार की तरफ से लगातार पैन कार्ड को बनवाने के नियमों को आसान किया जा रहा है. अब तो आप घर बैठे e-Pan भी बनवा सकते हैं वो भी मात्र 10 मिनट में. बता दें कि पैनकार्ड पर एक नंबर होता है, इसी नंबर में आपके बारे में सारी जानकारी छिपी होती है. इनकम टैक्स विभाग के कर्मचारी इन्ही नबरों की सहायता से आपके फाइनेंनशियल एक्टिविटी पर नजर रख पाते हैं. पैन कार्ड की आवश्यकता ITR फाइलिंग में भी होती है. ऐसे में हम बताएंगे कि आखिर पैन की जरूरत कहां कहां पड़ती है. नीचे दिए गए 5 कामों में पैनकार्ड का होना अनिवार्य है.Also Read - How to link PAN with Aadhaar Card: सरकार ने जारी किया अलर्ट, 30 सितंबर के पहले करें ये काम, नहीं तो बेकार हो जाएगा पैन कार्ड

अगर आप इनकम टैक्स भरने की सोच रहे हैं तो आपके पास पैन कार्ड का होना बेहद जरूरी है. ऐसे में अगर आपका आधार आपके पैन से लिंक नहीं है तो इनकम टैक्स की फाइलिंग में आपको समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. बता दें कि आपको 50000 से अधिक की खरीददारी पर भी पैन कार्ड देना होता है. यही नहीं 5 लाख से ज्यादा की को अचल संपत्ति खरीदने पर आपको पैन कार्ड देना होगा. Also Read - SBI Alert: भारतीय स्टेट बैंक ने ग्राहकों के लिए 2 अलर्ट किए जारी, 44 करोड़ ग्राहकों पर होगा इसका असर

अगर आप बैंक में आवेदन कर रहे हैं खाता खुलवाने के लिए, क्रेडिट-डेबिट कार्ड के लिए तब भी आपको पैन कार्ड की आवश्यकता होगी. अगर आपके ऑफिस सेविंग अकाउंट में 50,000 से अधिक नकदी जमा है तो आपका अकाउंट पैन से लिंक होना चाहिए. होटलों में अगर आपका बिल 25,000 से अधिक आया है तो आपको वहां भी पैन कार्ड देना होगा. Also Read - Sukanya Samriddhi Yojana: पीएनबी में खुलवाएं सुकन्या समृद्धि योजना खाता, 30 सितंबर तक पाएं दोगुना मुनाफा

साथ ही अगर आप 1 लाख से अधिक के म्यूचुअल फंड को खरीदते हैं तो इसके लिए भी पैन की आवश्यकता होगी. पैन नंबर यहां भी देना अनिवार्य है. कंपनी के शेयर खरीदने, 50,000 से अधिक के भुगतान पर आपको पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ेगी. साथ ही जीवन बीमा की रकम अगर 50,000 से अधिक है तो आपको यहां भी पैन नंबर देना अनिवार्य होगा.

कैसे बनवाएं e-Pan

1- आगर आप ई-पैन बनवाना चाहते हैं तो इसकी पहली शर्त यह है कि आपके पास एक वैध आधार कार्ड का होना बहुत जरूरी है. ई-पैन आवेदन में आयकर विभाग द्वारा आपका UIDAI विवरण मांगा जाता है. आयकर विभाग द्वारा यह डिटेल e-KYC प्रक्रिया को पूरा करने के लिए मांगा जाता है. इसके लिए आपको किसी तरह के फॉर्म को भरने की आवश्यकता नहीं होगी.

2- जिनके पास पहले से एक पैन कार्ड मौजूद है उन्हें दोबारा पैन के लिए आवेदन न करने की हिदायत दी जाती है. अगर आपके पास दो पैन कार्ड भी पाए जाते हैं तो आपके खिलाफ आयकर अधिनियम की धारा 272 बी के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है. इसमें आपको 10 हजार तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है.

3-ई-पैन के लिए अप्लान करने से पहले अपने आधार के जन्मतिथि व अन्य विवरणों को ध्यान से देखकर आवेदन करें. हालांकि कुछ आधार कार्डों में केवल जन्म का साल लिखा होता है पूरा विवरण नहीं. इसके लिए आप UIDAI की वेबसाइट पर जाकर इसमें बदलाव कर फिर आप ई-पैन के लिए आवेदन करें. क्योंकि जन्म की तारीख का पूरा विवरण देना अनिवार्य है.

4- आपके आधार से आपके मोबाइल नंबर का जुड़ा होना भी अनिवार्य है. क्योंकि आयकर विभाग द्वारा आपके लिंक्ड मोबाइल नंबर पर ही OTP यानी वन टाइम पासवर्ड भेजा जाएगा. इसके बगैर e-KYC की प्रक्रिया पूरी नहीं की जा सकेगी.

5- ई-पैन के लिए आवेदन करने वालों की आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए. यह सुविधा तभी आपको मिल पाएगी. साथ ही यह सुविधा सिर्फ व्यक्तियों, कंपनियों व साझेदारी फर्मों के लिए उपलब्ध कराई गई है.