मर्चेंट लेंडिंग बिजनेस में अपनी पकड़ मजबूत बनाने के लिए पेटीएम (Paytm) ने मार्च, 2021 तक सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग (MSMEs) को 1,000 करोड़ रुपये लोन देने की योजना बनाई है. Paytm इन उद्यमियों को लोन देगी जिन्हें रोजगार शुरू करने के लिए रेग्युलर बैंक से लोन नहीं मिल पाता है. Also Read - 250 cash back on 25000 deposite in paytm payment bank | पेटीएम पेमेंट बैंक हुआ लॉन्च, 25000 के डिपॉजिट पर मिलेगा 250 कैशबैक

बता दें, Paytm ने वित्त वर्ष 2019-20 में MSMEs को कर्ज के रूप में 550 करोड़ रुपये मुहैया कराई थी. लेकिन इस साल कंपनी ने अब इस रकम को बढ़ाकर 1,000 करोड़ रुपये कर दिया है. मर्चेंट लेंडिंग के क्षेत्र में Paytm की प्रतिद्वंद्वी गूगल पे (Google pay) और फोन पे (PhonePE) ने भी कदम रखा है जो कई लाइसेंसी बैंकों और NBFCs के साथ मिलकर छोटे व्यापारियों को लोन दे रही है. इसी को काउंटर करने के लिए Paytm ने MSMEs के लिए लोन देने की राशि में बढ़ोतरी की है.

Paytm Lending के सीईओ भावेश गुप्ता ने कहा कि कंपनी बिना किसी गारंटी के कोई भी चीज गिरवी रखे बिना, छोटे व्यापारियों और MSMEs को 5 लाख रुपये तक का इंस्टैंट लोन (collateral-free instant loans) बेहद कम इंटरेस्ट रेट पर देगी. उन्होंने कहा कि कंपनी अपने मर्चेंट लेंडिग प्रोग्राम (Merchant Lending Program) के तहत पेटीएम बिजनेस ऐप (Paytm Business app) पर कस्टमर्स को collateral-free instant loans बेहद आसानी से मुहैया कराएगी.

एल्गोरिद्म के फैसले पर मिलेगा लोन

Paytm Business app का एल्गोरिद्म यह फैसला करेगी कि कौन लोग Loan लेने के लिए एलिबिजल (eligible) हैं और कौन नहीं. इस ऐप का एल्गोरिद्म मर्चेंट द्वारा पेटीएम पर डेली किए गए सेटलमेंट के आधार पर यह फैसला करता है कि loan लेने वाला व्यक्ति कर्ज चुकाने में सक्षम है या नहीं.वित्त वर्ष 2019-20 में Paytm ने 1 लाख से अधिक छोटे व्यापारियों और MSMEs को 550 करोड़ रुपये का लोन दिया था. Paytm Lending के सीईओ भावेश गुप्ता ने कहा कि लोन के लिए आवेदन करने से लेकर लोन देने तक की प्रक्रिया पूरी तरह डिजिटल है और इसके लिए किसी अतिरिक्त डॉक्यूमेंट की जरूरत नहीं है.

पेटीएम ने लॉन्च किया POS डिवाइस

Paytm ने हाल ही में अपना ऑल-इन वन एंड्रॉयड पीओएस डिवाइस (All-in-One Android POS device) लॉन्च किया है. इससे बिजनेसमैन और ट्रेडर्स विभिन्न मोबाइल वॉलेट सहित सभी UPI आघारित ऐप, डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड से पेमेंट ले सकेंगे. इस डिवाइस से अब तक दो लाख किराना दुकानदारों ने डिजिटल पेमेंट प्रणाली अपनाई है. इस डिवाइस से वे पेमेंट को ट्रैक कर सकेंगे और बैंक के साथ सेटलमेंट भी कर सकेंगे. यह ऐप 10 भाषाओं में उपलब्ध है.