नई दिल्ली: नरेन्द्र मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के पहले ही साल में छोटे दुकानदारों एवं कारोबारियों को पेंशन सुविधा के लाभ की घोषणा की है. डेढ़ करोड़ से कम के सालाना कारोबार वाले तीन करोड़ छोटे दुकानदार एवं कारोबारी इस सुविधा का लाभ उठा सकेंगे. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को लोकसभा में पेश आम बजट में यह घोषणा की है. उन्होंने कहा कि डेढ़ करोड़ रुपए से कम के सालाना कारोबार वाले तीन करोड़ खुदरा कारोबारियों एवं दुकानदारों को प्रधानमंत्री कर्मयोगी मानधन योजना के तहत पेंशन योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा. Also Read - FPI Investment: एफपीआई ने जून में भारतीय इक्विटी में किया 15,520 करोड़ रुपये का निवेश

सरकार ने एनपीए के 4 लाख करोड़ रुपए वसूले हैं पिछले चार साल में: वित्‍त मंत्री सीतारमण Also Read - केंद्र ने ब्लैक फंगस की दवा पर टैक्स हटाया, वित्त मंत्री सीतारमण बोलीं- कोविड टीकों पर 5% GST जारी रहेगी

वित्त मंत्री ने कहा कि असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिये शुरू की गई प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना को अब तक 30 लाख कामगारों ने अपनाया. इस योजना को अपनाने वाले कामगारों को 60 साल की आयु के बाद 3,000 रुपए मासिक पेंशन की सुविधा उपलब्ध होगी. योजना की शुरुआत पिछले साल प्रधानमंत्री ने अहमदाबाद में की थी. Also Read - New Income Tax Portal: पहले ही दिन फेल हो गया नया इनकम टैक्स पोर्टल, वित्तमंत्री ने इन्फोसिस के को-पाउंडर से मांगा जवाब

रेलवे में Rs.50 लाख करोड़ के निवेश की जरूरत, पीपीपी मॉडल अपनाएंगे: वित्त मंत्री

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा स्वच्छता अभियान पर दिये जाने वाले जोर की प्रतिध्वनि वित्त मंत्री के बजट भाषण में भी सुनाई दी. उन्होंने कहा, यह सूचना देते हुए प्रसन्न एवं संतुष्ट हूं कि भारत को दो अक्तूबर 2019 को खुले में शौच करने से मुक्त घोषित किया जाएगा.

3,000 अरब डॉलर की भारतीय अर्थव्यवस्था हो जाएगी इसी साल

वित्त मंत्री ने किराए वाले मकानों के क्षेत्र में सुधार के लिए सरकार की प्रतिबद्धता जताते हुए कहा कि किराए वाले मकानों को प्रोत्साहन देने के लिए कई सुधार किए जाएंगे. उन्होंने कहा कि मौजूदा कानून काफी पुराने हैं, क्योंकि वे पट्टा देने वाले और पट्टा लेने वालों के संबंधों की समस्याओं का ढंग से निदान नहीं कर पाते.

निर्मला सीतारमण ने शायरी से की बजट भाषण की शुरुआत, कहा- यकीन हो तो कोई रास्ता निकलता है…

सीतारणम ने कहा कि विभिन्न श्रम कानूनों को सरल कर चार कानून संहिताएं तय की जाएंगी. इसका मकसद रिटर्न दाखिले और पंजीकरण का मानकीकरण करना और विवादों को घटना है. महिला उद्मियों की चर्चा करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि प्रत्येक स्वयं सेवी समूह की प्रमाणित महिला सदस्य का जन धन खाता होगा और उन्हें पांच हजार रुपए के ओवर ड्राफ्ट की सुविधा मिलेगी.