नई दिल्ली: पेट्रोल और डीजल के दाम में सोमवार को भी गिरावट दर्ज की गई. यह लगातार पांचवा दिन है जब तेल के दाम घटे हैं. इससे दो महीने से तेल के दाम में लगातार वृद्धि से परेशान उपभोक्ताओं को कुछ राहत मिली है. सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों की कीमत अधिसूचना के अनुसार पेट्रोल 30 पैसे प्रति लीटर और डीजल 27 पैसे प्रति लीटर सस्ता हुआ है. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 81.44 रुपये लीटर और डीजल 74.92 रुपये लीटर है. वहीं मुंबई में पेट्रोल 86.91 रुपये लीटर और डीजल 78.54 रुपये प्रतिलीटर बिक रहा है. Also Read - कंगना रनौत के बंगला मामले में HC ने BMC से पूछे कई सवाल, सोमवार को होगी जिरह

अंतरराष्ट्रीय बाजार में ईंधन के दाम कम होने से घरेलू बाजार में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में गुरुवार से नरमी आ रही है. सार्वजनिक क्षेत्र की इंडियन आयल कारपोरेशन (आईओसी), भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लि. (बीपीसीएल) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लि. (एचपीसीएल) दैनिक आधार पर सुबह छह बजे दाम की समीक्षा करती हैं. Also Read - दिल्ली में बेकाबू कलस्टर बस ने राहगीरों को मारी टक्कर, 3 की मौत, 4 घायल

पेट्रोल और डीजल के दाम में रविवार को भी गिरावट दर्ज की गई थी. सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों की कीमत अधिसूचना के अनुसार पेट्रोल 25 पैसे प्रति लीटर और डीजल 17 पैसे प्रति लीटर सस्ता हुआ था. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 81.74 रुपये लीटर और डीजल 75.19 रुपये लीटर रहा. वहीं मुंबई में पेट्रोल 87.21 रुपये लीटर और डीजल 78.82 रुपये रहा. इससे पहले, पांच अक्टूबर को ईंधन के दाम 2.50 लीटर कम हुए थे. सरकार ने उत्पाद शुल्क में 1.50 रुपये लीटर की कटौती की थी और सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों से प्रति लीटर एक रुपये की कटौती करने को कहा था. इसके अलावा विशेषकर भाजपा शासित राज्यों ने भी स्थानीय बिक्री कर या वैट में इतनी ही कटौती की थी.

अमेरिकी भंडार में उम्मीद से अधिक बढ़ोतरी की खबर से अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में नरमी का असर घरेलू बाजार पर पड़ा है. शुक्रवार को न्यूयार्क मर्केन्टाइल एक्सचेंज में नवंबर महीने की डिलीवरी के लिये वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट की कीमत 69.12 डालर प्रति बैरल रही. वहीं लंदन स्थित आईसीई फ्यूचर यूरोप एक्सचेंज में ब्रेंट क्रूड का भाव दिसंबर महीने के लिये 79.78 डालर प्रति बैरल रहा. इससे पहले, ब्रेंट का भाव इस महीने की शुरुआत में चार महीने के उच्च स्तर 86.74 डालर बैरल पर पहुंच गया था.