नई दिल्ली. पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोतरी का सिलसिला थमता नहीं दिख रहा है. दिल्ली में जहां आज पेट्रोल (Petrol) का भाव 79.99 रुपए प्रति लीटर की दर पर पहुंच गया है, वहीं मुंबई में इसका दाम 87.39 रुपए हो गया है. इधर, डीजल (Diesel) की दर दिल्ली में जहां 72.07 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच गई है, वहीं मुंबई में आज 76.51 रुपए प्रति लीटर की दर से डीजल बिक रहा है. पेट्रोल और डीजल की यह मूल्यवृद्धि रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है. गुरुवार को भी देश के इन दोनों महानगरों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफा किया गया था. बता दें कि पेट्रोल-डीजल के भावों में लगातार बढ़ोतरी को लेकर कई राजनीतिक दल केंद्र सरकार पर मूल्यवृद्धि पर अंकुश नहीं लगाने का आरोप लगा रहे हैं. केंद्र में प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने तो पेट्रो मूल्यवृद्धि को लेकर आगामी 10 सितंबर को भारत-बंद का एलान भी किया है.

19 से 22 पैसे तक की हुई थी वृद्धि
पेट्रोल और डीजल के भावों में गुरुवार को देश के तीन महानगरों- मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में 19 से लेकर 22 पैसे तक की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी. मुंबई में गुरुवार को पेट्रोल की कीमत जहां 86.91 रुपए प्रति लीटर थी, वहीं चेन्नई में इसका दाम 82.62 रुपए था. कोलकाता में पेट्रोल का दाम 82.41 रुपए प्रति लीटर दर्ज किया गया था. मुंबई में गुरुवार को डीजल के दाम में 22 पैसे की बढ़ोतरी हुई थी, वहीं चेन्नई में इसकी कीमत 75.61 रुपए और कोलकाता में 74.40 रुपए प्रति लीटर रही थी.

How is petrol and diesel price determined | ऐसे होती है पेट्रोल और डीजल की कीमत तय

How is petrol and diesel price determined | ऐसे होती है पेट्रोल और डीजल की कीमत तय

ईंधन की कीमतों में वृद्धि की ये है वजह
पिछले मंगलवार तक देशभर में ईंधन की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की गई है. देश के चारों महानगरों समेत अन्य शहरों में भी पिछले एक सप्ताह से पेट्रोल और डीजल के दाम में लगातार वृद्धि दर्ज की गई है. जानकारों के अनुसार देशभर में ईंधन कीमतों में बढ़ोतरी का मुख्य कारण अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी है. वहीं देश में पेट्रोल-डीजल पर सरकार द्वारा वसूले जाने वाले उच्च उत्पाद कर की वजह से इतने महंगे भाव में पेट्रो पदार्थ बेचे जा रहे हैं. इसके अलावा डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत में लगातार हो रही गिरावट से भी पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी देखी जा रही है. रुपए के गिरते भाव के कारण कच्चे तेल का आयात महंगा हो गया है, जिसका असर ईंधन की कीमतों पर हो रहा है.