PM kisan Samman Nidhi Yojana Vs Krishak Bandhu Scheme online benefits, registration, apply process: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की एक सबसे अहम योजना है प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना. इस योजना के तहत देश के करोड़ों किसानों को हर साल 6 हजार रुपये का लाभ दिया जाता है, लेकिन पश्चिम बंगाल एक ऐसा राज्य जहां यह योजना लागू नहीं है.Also Read - Assembly Elections 2022: पांच राज्यों के चुनावों से पहले PM मोदी आज BJP कार्यकर्ताओं को देंगे जीत का मंत्र

इस राज्य में यह योजना प्रदेश की ममता सरकार और केंद्र की मोदी सरकार के बीच जारी खींचतान की वजह से लागू नहीं हो पाई. इस कारण इस योजना के तहत मिलने वाली सहायता से राज्य के लाखों को किसानों को महरूर रहना पड़ा है. लेकिन ऐसा नहीं है कि राज्य के किसानों को कोई फायदा नहीं हो रहा है. Also Read - सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा लगाने को नेताजी की बेटी ने बताया अच्छा कदम, कहा- 'उनका देश प्रेम अदभुत था'

राज्य की ममता सरकार अपने बूते अपने किसानों के लिए इसी योजना के तर्ज पर एक और स्कीम चलाती है. इस स्कीम का नाम है Krishak Bandhu Scheme, जिसके तहत राज्य के लाखों किसानों के हर साल पांच हजार रुपये की सहायता दी जाती है. इतना ही नहीं इस राज्य सरकार ने अपने बजट में इस योजना के तहत भी मिलने वाली सहायता राशि को किसान सम्मान निधि योजना के बराबर यानी 6 हजार रुपये सालाना कर दिया है. Also Read - PM मोदी ने सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का किया अनावरण, कहा- 'आजादी के बाद की गलतियों को अब देश सुधार रहा'

कृषक बंधु योजना (Krishak Bandhu Scheme)

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सरकार किसानों के लिए जो स्कीम चलाती है उसका नाम है कृषक बंधु स्कीम. इसके तहत वह किसानों को प्रति एकड़ 5 हजार रुपये की सहायता देती हैं. ये राशि साल में दो बार दो किश्तों में दी जाती है. इस योजना के तहत अन्य कई लाभ भी दिए जा रहे हैं. इसी महीने पेश राज्य सरकार के बजट में ममता सरकार ने इस योजना के तहत सहायता राशि पांच हजार से बढ़ाकर 6 हजार रुपये वार्षिक कर दिया.

केंद्र सरकार की किसान सम्मान निधि योजना में भी इतने ही रुपये की सहायता दी जाती है. ममता सरकार की इस कृषक बंधु योजना के तहत 47 लाख से अधिक किसान पंजीकृत हैं.

Krishak Bandhu Scheme के लाभ

इस योजना के तहत हर लाभार्थी को दो लाख रुपये का जीवन बीमा दिया जाता है. इस योजना के क्रियान्वयन के दौरान जिस भी किसान की दुर्घटनावश मौत होती है उसे भी बीमा का लाभ मिलता है. लाभार्थी को दो किश्तों में 5000 रुपये का फसल बीमा दिया जाता है. बीमित राशि का भुगतान किसान की मौत के 15 दिनों के भीतर की जाती है. योजना के तहत सभी लाभार्थियों को फसल बीमा के प्रीमियम का भुगतान राज्य सरकार करती है. साल में दो बार खरीफ और रवि फसल के वक्त किसानों को 2500-2500 रुपये की सहायता दी जाती है.

ममता सरकार की अन्य योजनाएं

राज्य सरकार ने इसी महीने पेश बजट में कई योजनाओं में आवंटन और लाभ की राशि बढ़ा दी थी. इसके तहत वृद्धा पेंशन और विधवा पेंशन की राशि बढ़ाई गई थी. इसके तहत 60 साल से अधिक उम्र के सभी बुजुर्गों और 18 साल से अधिक उम्र की सभी विधवाओं को सहायता दी जाएगी. इन योजनाओं के तहत वृद्धा पेंशन की राशि बढ़ाकर प्रति माह एक हजार रुपये कर दी गई. इससे राज्य के करीब 2 करोड़ बुजुर्गों और 15 से 20 लाख विधवाओं को लाभ मिलेगा.