नई दिल्ली: विश्‍वव्‍यापी कोरोना वायरस संक्रमण की महामारी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक मीटिंग बुलाकर देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए अहम चर्चा की और एक योजना तैयार करने पर विचार-विमर्श किया. Also Read - पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिक 'अच्छी-खासी संख्या' में आए, भारत पीछे नहीं हटेगा: राजनाथ सिंह

पीएम मोदी ने गुरुवार को कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए स्थानीय निवेश बढ़ाने के साथ साथ अधिक विदेशी निवेश आकर्षित करने के विभिन्न उपायों पर मंत्र‍ियों और सीनियर अधिकारियों विस्तार से चर्चा की. Also Read - पीएम मोदी और डोनाल्‍ड ट्रंप के बीच भारत-चीन बॉर्डर की स्थिति को लेकर हुई बातचीत

प्रधानमंत्री कार्यालय के एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने एक बैठक की. पीएम नरेंद्र मोदी ने आज COVID19 महामारी की पृष्ठभूमि के खिलाफ अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए भारत में और अधिक विदेशी निवेश को आकर्षित करने और स्थानीय निवेश को बढ़ावा देने के लिए रणनीतियों पर चर्चा करने के लिए एक व्यापक बैठक की. Also Read - G-7 सम्मेलन में भारत, रूस, ऑस्ट्रेलिया, कोरिया को आमंत्रित करने की ट्रंप की योजना से चीन नाराज


बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि देश में मौजूदा औद्योगिक भूमि, भूखंडों, परिसरों आदि में परखे हुए, तैयार बुनियादी ढांचे के काम को बढ़ावा देने के लिए एक योजना विकसित की जानी चाहिए और इन्हें जरूरी वित्तीय समर्थन भी उपलब्ध कराया जाना चाहिए

पीएम मोदी ने बैठक के दौरान सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया कि निवेशकों को बनाए रखने, उनकी समस्याओं को देखने तथा उन्हें समयबद्ध तरीके से सभी आवश्यक केंद्रीय और राज्य मंजूरियां प्राप्त करने में मदद करने के हर संभव कदम सक्रियता से उठाए जाने चाहिए. बैठक में तेजी से देश में निवेश लाने और भारतीय घरेलू क्षेत्र को बढ़ावा देने की विभिन्न रणनीतियों पर भी चर्चा हुई.