तिरुवनंतपुरम: पंजाब नेशनल बैंक को चालू वित्त वर्ष में मुनाफे में लौटने की उम्मीद है. बैंक के प्रबंध निदेशक सुनील मेहता ने कहा है कि बैंक मुनाफे में लौटेगा और वृद्धि दर्ज करेगा. उन्होंने जोर देकर कहा कि 14,000 करोड़ रुपए का नीरव मोदी घोटाला अब बीती बात है. मेहता ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि पीएनबी 2018-19 में लाभ में लौटेगा. उन्होंने कहा कि इस साल जनवरी में नीरव मोदी घोटाला सामने आने के बाद बैंक ने कई कदम उठाए हैं. Also Read - चेक से भुगतान करने के बदले नियम!, आरबीआई ने उठाया बड़ा कदम, चेक लेने और देने से पहले जानें नए नियम

Also Read - नीरव मोदी मामला: PNB को वसूली की पहली किश्त के रूप में अमेरिका से मिले 24.33 करोड़ रुपये

एनपीए के संकट में फंसा पीएनबी लौटा पटरी पर, पहली तिमाही में वसूले Rs.7,700 करोड़ Also Read - SBI से Rs 938.81 करोड़ का फ्रॉड: CBI ने दिल्‍ली, मुरैना समेत कई जगह छापे मारे

केरल के मुख्यमंत्री पिनारयी विजयन को सोमवार को बाढ़ राहत और पुनर्वास के लिए पांच करोड़ रुपए का चेक देने के बाद मेहता ने न्यूज एजेंसी से इंटरव्यू में कहा कि बैंक ने इस तरह के झटके को सहने की क्षमता दिखाई है. चालू वित्त वर्ष में बैंक पुन: मुनाफे में लौटेगा.

पीएनबी घोटाला: अन्य बैंकों के अधिकारी भी जांच के घेरे में

बैंक के प्रबंध निदेशक ने कहा कि बैंक धीरे-धीरे वृद्धि की राह पर लौट रहा है. पीएनबी को चालू वित्त वर्ष की जून तिमाही में 940 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है. इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में बैंक ने 343.40 करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया था.

बैंक के निदेशक मंडल ने विस्तार के लिए सरकार से 5,431 करोड़ रुपए की पूंजी मांगी है. इसके लिए बैंक तरजीही शेयर जारी करेगा.

1320 करोड़ रुपये वसूलने के लिए 21 एनपीए खातों को बेचेगा पीएनबी

उन्होंने कहा कि प्रस्तावित पूंजी निवेश से बैंक की वृद्धि की पहल को प्रोत्साहन मिलेगा. इससे पहले इसी साल बैंक में 2,816 करोड़ रुपए का कोष डाला गया था, जो नियामकीय अनुपालन के तहत नियमों को पूरा करने के लिए था.