Pradhan Mantri Awas Yojana: देश के सभी नागरिकों को 2022 तक पक्का घर मुहैया कराने के लिए पीएम मोदी ने 2015 में प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू की थी. मिशन के तौर पर चल रही इस योजना के तहत शहरी क्षेत्र में एक गरीब व्यक्ति 30 वर्ग मीटर कार्पेट एरिया में घर का निर्माण करवा सकता है. वहीं इसी योजना के तहत निम्न आय वर्ग (LIG) और मध्यम आय वर्ग (MIG) के लोग कम ब्याज दर पर लोन लेकर अपने घर का सपना पूरा कर सकते हैं. योजना का क्रियान्वयन राज्य सरकारों या केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों और केंद्रीय नोएड एजेंसी के जरिए की जाती है. योजना की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसमें परिवार की महिला को घर का मालिक बनाया जाता है.Also Read - PM नरेंद्र मोदी बोले, आवास योजना के लाभार्थी तीन करोड़ गरीब परिवार अब लखपति बन चुके हैं

क्या है क्रेडिट लिंक सब्सिडी स्कीम (CLSS)

मध्यम आय वर्ग (Middle Income Group) के लिए चलाई जा रही क्रेडिट लिंक सब्सिडी स्कीम को ही CLSS कहा जाता है. यह पहले 2017 तक था जिसे बढ़ाकर मार्च 2020 कर दिया गया. फिर इसे बढ़ाकर मार्च 2021 कर दिया गया. इस स्कीम के तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को 2.67 लाख रुपये की ब्याज सब्सिडी दी जाती है. Also Read - PM Awas Yojana List 2021: PM Awas Yojana में कैसे चेक करें नाम और यहां जानें- कैसे देखें लाभार्थियों की पूरी सूची

किसे मिलेगा प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) का लाभ

इस योजना का मूल उद्देश्य सभी को आवास मुहैया कराना है. इसलिए जिनके पास पहले से घर है या जिनके परिवार के किसी सदस्य के पास घर है तो उन्हें इसका लाभ नहीं मिलेगा. इसमें स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि लाभार्थी के पास पक्का घर नहीं होना चाहिए. इसमें परिवार को भी परिभाषित किया गया है. परिवार में पति-पत्नी और अविवाहित बच्चे आते हैं. Also Read - PM Awas Yojana 2021: पीएम आवास योजना में मिल सकती है एक और बड़ी सुविधा, जानिए- कैसे मिलेगा लाभ?

EWS, LIG, MIG श्रेणी क्या है

तीन लाख रुपये से कम वार्षिक आय वाला परिवार आर्थिक रूप से कमजोर श्रेणी (EWS) में आता है. इसके बाद 3 से 6 लाख सलाना आय वाला परिवार एलआईजी और 6 से 12 लाख सालाना आय वाला परिवार एमआईजी-1 श्रेणी में आता है. 12 से 18 लाख सलाना आय वाला परिवार एमआईजी-2 श्रेणी में आता है. एमआईजी-1 और एमआईजी-2 श्रेणी में नौ लाख रुपये तक के लोन पर चार फीसदी और 12 लाख रुपये तक के लोन पर तीन फीसदी ब्याज सब्सिडी मिलती है.

PMAY स्कीम कैसे काम करता है

उदाहरण के लिए आप एमआईडी-2 श्रेणी में आते हैं और आप 60 लाख रुपये का एक घर खरीदना चाहते हैं. इसके लिए आप 20 फीसदी यानी 12 लाख रुपये का भुगतान नकद करते हैं और बाकी राशि यानी 48 लाख लोन लेते हैं. लेकिन आपको पीएम आवास योजना के तहत 12 लाख रुपये के लोन पर ही 3 फीसदी ब्याज सब्सिडी मिलेगी. इस तरह बाकी के 36 लाख रुपये की लोन राशि पर नॉर्मल ब्याज लगेगा.

क्या खाली प्लॉट पर मकान बनाने में इस स्कीम का फायदा मिलेगा

इसका जवाब हां है. इसके तहत लाभार्थी को ब्याज सब्सिडी मिलेगी. इस योजना में एमआईजी-1 श्रेणी के लिए 160 वर्ग मीटर कारपेट एरिया रखा गया है जबकि एमआईडी-2 में 200 वर्ग मीटर कारपेट एरिया रखा गया है.