नई दिल्ली: बंदरगाहों से रेल संपर्क को जोड़ने के लिए 44,605 करोड़ रुपये के निवेश से 52 परियोजनाओं पर काम जारी है. एक अधिकारी ने रविवार को जानकारी देते हुए बताया कि इन परियोजनाओं का क्रियान्वयन इंडियन पोर्ट रेल कॉरपोरेशन लि. (आईपीआरसीएल) तथा रेल मंत्रालय कर रहा है. Also Read - Sarkari Naukri: RITES Recruitment 2020: रेल मंत्रालय के अधीन RITES में इन पदों पर निकली वैकेंसी, जल्द करें आवेदन, ये है आखिरी तारीख

Also Read - RRB NTPC के 1.4 लाख वैकेंसी के लिए 2.4 करोड़ लोगों ने किया आवेदन, जानें परीक्षा आयोजित करने को लेकर RRB की क्या है तैयारी   

कार खरीदने वालों के लिए बेहतरीन मौका, Honda, Maruti कंपनियां दे रहीं ये चुनिंदा ऑफर Also Read - RRB NTPC Exam 2019 Fact Check: क्या 15 दिसंबर को होने वाली RRB NTPC 2019 की परीक्षा हुई स्थगित? जानिए Fact Check में इसकी सच्चाई  

अलग-अलग चरणों में हैं योजनाएं

पोत परिवहन मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि आईपीआरसीएल 9 बड़े बंदरगाहों पर 18,253 करोड़ रुपये की 32 परियोजनाओं पर काम कर रही है. इसमें से 175 करोड़ रुपये मूल्य की आठ परियोजनाएं पूरी हो गयी हैं. अधिकारी के अनुसार इसके अलावा रेल संपर्क से जुड़ी 24,877 करोड़ रुपये मूल्य की 23 परियोजनाओं की पहचान सागरमाला के अंतर्गत की गई है. इन परियोजनाओं पर रेल मंत्रालय काम कर रहा है. इसमें से 2,491 करोड़ रुपये के निवेश वाली सात परियोजनाएं पूरी हो गई हैं. सागरमाला देश का बंदरगाह आधारित विकास कार्यक्रम है. इसमें वैश्विक और घरेलू दोनों व्यापार के लिए लॉजिस्टिक लागत में कटौती पर जोर दिया गया है.

जरूरी जानकारी: यहां बैन हुए 200, 500 और 2000 रुपये के नोट

कम हो जायंगी दूरियां

इसके अलावा 4,193 करोड़ रुपये मूल्य की 15 रेल संपर्क परियोजनाओं पर काम शुरू किया गया. इसमें से 52 करोड़ रुपये मूल्य की तीन परियोजनाएं पूरी हो चुकी हैं. अधिकारी ने कहा, ‘‘कुल 44,605 करोड़ रुपये के निवेश से 52 परियोजनाएं क्रियान्वयन के विभिन्न चरण में हैं. जबकि 18 परियोजनाएं पूरी हो चुकी हैं.’’ इसके अलावा 362 किलोमीटर लंबी इंदौर-मनमाड नई रेल लाइन परियोजना के लिए हाल ही में जवाहरलाल नेहरू पार्ट ट्रस्ट, रेल मंत्रालय, महाराष्ट्र तथा मध्य प्रदेश सरकार ने समझौते पर हस्ताक्षर किए. नई परियोजना से मध्य भारत के शहरों से मुंबई/पुणे के बीच दूरी 171 किलोमीटर कम होगी. इससे लॉजिस्टिक लागत कम होगी.

तीन सरकारी जनरल इंश्योरेंस कंपनी का होगा विलय, ई वाई कंपनी होगी सलाहकार