मुंबई: बजाज ऑटो के मैनेजिंग डायरेक्‍टर राजीव बजाज ने 100 सीसी की डिस्कवर बाजार में उतारने को अपने करियर की ‘सबसे बड़ी चूक’ करार दिया. उन्होंने कहा कि इस मोटरसाइकिल की विफलता के कारण कंपनी देश में दूसरे स्थान पर लुढ़क गयी.

बजाज ने कहा कि डिस्कवर जब 125 सीसी के संस्करण में पेश की थी तो यह एक अलग तरह की मोटरसाइकिल थी. तब डिस्कवर माइलेज और ताकत दोनों का मिश्रण थी और यही कारण है कि उसकी बिक्री जोरदार थी. उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान कहा, “एक तरह का लालच पैदा हो गया था. लोगों ने कहा अगर 125 सीसी की डिस्कवर इतनी बिक रही है तो 100 सीसी की कितनी बिकेगी. हमने इस विचार पर काम किया और 100 सीसी की डिस्कवर लेकर आए. हमने अपना स्थान खो दिया और पांच साल बाद हमारा प्रदर्शन भी खराब हो गया…”

ऐसा क्या हो गया कि मार्च 2019 तक बंद हो जाएंगे देश के आधे से ज्यादा ATM

बजाज ने कहा, “हमने अलग विचार एवं यूएसपी के साथ नये तरह के उत्पाद के साथ शुरुआत की थी लेकिन यह ‘मीटू’ उत्पाद में बदल गया. जीवन और व्‍यवसाय दोनों के लिए ‘मीटू’ अच्छा नहीं होता.” बजाज हालांकि रेसिंग मोटरसाइकिल बनाने वाली ऑस्ट्रेलियाई कंपनी केटीएम की संभावनाओं को लेकर आशावान नजर आए. कंपनी ने 2007 में केटीएम में निवेश किया था.

एक दिसंबर से दिल्ली एयरपोर्ट से फ्लाइट पकड़ना महंगा होगा, यात्री सेवा शुल्‍क बढ़ा

उन्होंने कहा कि बजाज ऑटो अगले साल ई-वाहन बाजार में उतरने की योजना बना रही है. हालांकि उन्होंने सस्ते ई-वाहन बाजार में उतारे जाने को लेकर उद्योग पर चुटकी लेते हुए कहा कि वे इस तरह के वाहनों के साथ सौतेला व्यवहार कर रहे हैं. बजाज ने कहा, “हम दोपहिया या तिपहिया टेस्ला लाकर सुर्खियों में आ सकते थे…हम प्रयास करेंगे एवं 2019 में ऐसा करेंगे.”